हॉट मॉडल ने दिया कज़न सिस्टर की चुदाई वाला मजा

कजिन सिस्टर की चुदाई कहानी में पढ़ें कि कैसे मैंने अपनी बहन के घर अपनी एक कजिन बहन को चोदा. लेकिन वो चली गई और मुझे उसकी चूत की याद आती थी।

मेरी बहन की नयी-नयी शादी हुई थी।
मैं उसके फ्लैट पर रह रहा था।

मेरी बहन और जीजा ने मुझे और मेरी कज़न सिस्टर श्रेया को उनके साथ रहने के लिए बुलाया था।
मैं काफी एक्साइटेड था क्योंकि मेरी कज़न सिस्टर काफी हॉट थी।

यह इसी कजिन सिस्टर की चुदाई कहानी है.

जब मैं पहुंचा तो श्रेया सोफे पर बैठी थी और एक टाइट टॉप उसने पहना हुआ था, जिसमें से उसके चूचों की शेप साफ साफ उभर रही थी।
जैसे ही उसने मुझे देखा वो मुझे गले लगाने के लिए दौड़ी।

गले लगाते समय उसके नर्म चूचे भी मुझे मेरी छाती पर महसूस हुए।

मौके का फायदा उठाते हुए मैंने उसकी कमर में हाथ डाल लिया और उसके दूर हटने से पहले उसे भींच दिया।
उसने भी इसके लिए जैसे कोई प्रतिक्रिया नहीं दी।
हम चारों ने दिनभर खूब मस्ती की।

फिर बीच में दीदी और जीजा कहीं गायब हो गए और हमें मिले नहीं।
हमने घर में सब जगह देखा लेकिन वो नहीं मिले।

फिर एक रूम से कुछ आवाजें आतीं सुनाई दीं।
हमने दरवाजे की दरार से झांक कर देखा तो जीजा ने दीदी को दीवार से सटाया हुआ था और जमकर दोनों चुदाई का मजा ले रहे थे।

मेरी कज़न और मैंने एक दूसरे की तरफ देखा और श्रेया का चेहरा शर्म से थोड़ा लाल पड़ गया और वो वहां से चली गई।

श्रेया और मुझे एक ही रूम में रहना था।
जब मैं आया तो हम दोनों बातें करने लगे।

धीरे-धीरे हम लोग सेक्स की बातों पर आ गए।
वो बोली- तुमने कभी सेक्स किया है?
मैं- हां, जब मेरी गर्लफ्रेंड थी तो हम रोज ही चुदाई करते थे।

वह बोली- तो अब क्या हुआ?
मैं- ये रिश्ता कुछ ज्यादा ही गंभीर हो गया था।

उसने पूछा- ओह्ह सच में? तुमने कभी उसकी चूत चाटी?
मैं- ऐसा क्यों पूछा?
वह बोली- मुझे नहीं पता, बस ऐसे ही! मुझे लगता है ऐसा तो सिर्फ पोर्न फिल्मों में होता होगा।
मैं- नहीं, मैंने भी किया है ऐसा। चूत चाटने में बड़ा मजा आता है।
वह बोली- फक, अच्छा है तुम्हारे लिए। सुनकर अच्छा लगा।

मेरी हॉट कज़न सिस्टर अब बेवजह इधर उधर नजर घुमाने लगी और फिर एकदम से बोली- मैं सो रही हूं चलो!

मैं बाथरूम में चला गया।
लेकिन जब मैं वापस आया तो लाइटें बंद थीं और मुझे सिसकारी जैसी आवाजें आ रही थीं।
कम्बल में मुझे कुछ हिलता हुआ दिख रहा था।

फिर सिस्टर के साथ मैं भी लेट गया और फिर उसने एकदम से हरकत करना बंद कर दिया।

मैं सोने का नाटक करने लगा। जब उसे महसूस हुआ कि मैं सो गया तो उसने फिर से हरकत करना शुरू कर दिया।

इस बार मैंने उसे पता नहीं चलने दिया और इंतजार करता रहा।
धीरे धीरे उसकी सिसकारियां तेज होती चली गईं।
उसने अपनी पैंटी निकाल दी और अपनी चूत को रगड़ने लगी।

उसकी सांसें मुझ तक पहुंच रही थीं जिससे मेरा लंड पूरा तन गया था।
उसने खुद से फुसफुसाकर कहा- काश ये अभी उठे ना!
उसकी कामुक फुसफुसाहट मैंने सुन ली।

उसकी आवाज से साफ पता चल रहा था कि वह अपनी चूत में उंगली कर रही है।
उसके बाद मैं करवट बदलने के बहाने उसके थोड़ा और करीब सरक कर चला गया।

करवट लेने के साथ मैंने अपना हाथ उसके बदन पर रख दिया जिससे वो एकदम से सहम गई।

मैं धीमे धीमे सांस लेता रहा और अपनी आंखें बंद किए रहा।
श्रेया ने सोचा कि मैं फिर से सो गया हूं।

उसने अपनी ब्रा को खोला और उसे एक तरफ रख दिया।
उसकी गोरी सफेद चूचियां बाहर आ गईं।

उसने मेरा हाथ पकड़ कर अपनी चूचियों पर रखवाया और अपने हाथ से ही मेरे हाथ को दबाते हुए चूचियों को दबवाने लगी।
वह बोली- फक! दूसरे आदमी का हाथ लगता है तो कितना मजा आता है!

हल्के से उसकी चूची पर मैंने पकड़ बना दी और वो फिर से हैरानी में बड़बड़ाने लगी।
मैंने अपनी आंखें खोल दीं और उसके निप्पल को मरोड़ दिया और बोला- अब रुको मत!
वह बोली- मैं ऐसा कुछ करना नहीं चाहती थी.

मैं अपना चेहरा उसके चेहरे के पास ले गया।
उसने मेरे ऊपर अपनी गर्म गहरी सांस फेंकी और मैंने उसकी चूची को और जोर से भींच दिया।

वह बोली- मैं ये बस अभी के लिए ही करने दे रही हूँ!
मैं उसके चेहरे के और पास जाते हुए- मुझे पता है.

श्रेया ने मुझे हल्के से किस किया और गहरी सांस ली।
मैं धीरे से सरका कर हाथ उसकी चूत के पास ले गया।

उसने अपनी टांगें मेरे लिए खोल दीं और मैंने उसके निप्पलों को मुंह में ले लिया और उसके ऊपर आ गया।
मैंने अपने शॉर्ट्स उतार दिए और उसने एक गहरी आह भरी।

वह बोली- ओह फक! क्या ये सब हकीकत में हो रहा है! मुझे बहुत डर लग रहा है।
मैं- हम धीरे धीरे करेंगे!
वो बोली- ओके।

मैं उसके ऊपर लेटे हुए उसे डीप किस कर रहा था।
मेरा लंड उसकी चूत पर बार बार टच हो रहा था। लगभग मेरा लंड उसकी चूत में घुस ही चुका था और उसी वक्त उसकी हल्की सी सिसकारी निकल गई।

लेकिन मैं वहीं पर रुक गया और एकटक उसकी आंखों में देखने लगा।
उसने मुझे फिर से अपने ऊपर किस करने के लिए खींच लिया।

वह बोली- क्या हम ये करने जा रहे हैं?
मैं- हम बस मजे कर रहे हैं!

वह बोली- ओके, लेकिन मैं बहुत डर रही हूं।
मैं- मेरे पास इलाज है इसका …
वह बोली- कैसे?

मैं नीचे की ओर गया और उसकी चूत की क्लिट को प्यार से चाटने लगा।
उसकी चूत के होंठ मैंने फैला दिए और चूत रस बहकर मेरे मुंह में आने लगा। उसकी सिसकारियां फूटने लगीं और कमर मुड़कर चूचियां ऊपर उठ गईं।

उसने मेरे सिर को पकड़ लिया और होंठों को चूत पर जोर से दबा दिया।
उसकी चूत का पानी मेरे मुंह पर निकल गया।
फिर वो मुझे किस करने लगी और सिसकारती रही।

मैं एक बार फिर से उसके ऊपर ही लेट गया।
वह बोली- ठीक है.

मैं- क्या?
वह बोली- चलो सेक्स करते हैं.

मैंने उसी वक्त अपना लंड उसकी चूत में रख दिया।
उसने भी मुझे जोर से पकड़ लिया।
उसकी मोटी चूचियां मेरी छाती पर भिंच रही थीं और मैं उसकी रसीली चूत में धीरे से लंड को सरकाता जा रहा था।

उसने मेरे कान के पास मुंह लाकर सिसकारी लेना शुरू कर दिया।

अब मेरा स्खलन भी नजदीक आने को हो गया था लेकिन मैं उसकी चूत में झड़ने से खुद को रोकना चाहता था।

मैं- फक!! मेरा होने वाला है!
वह बोली- ओह फक, मेरे मुंह में निकालो। बाहर निकालो लंड जल्दी!
मैंने लंड को बाहर खींच लिया और वो मेरे लंड को जल्दी से मुंह में लेकर चूसने लगी।

वो तेजी से लंड का मुख मैथुन करने लगी और मेरी आंखों में लगातार देखने लगी।
मेरा माल बस निकलने ही वाला था।

मैंने लंड को उसके गले तक अंदर धकेल दिया और उसी वक्त लंड से वीर्य फूट पड़ा।

उसने एकदम से लंड को बाहर निकाल दिया और वीर्य उसके मुंह के बाहर गिरने लगा।
लेकिन उसने उसे चाट लिया और फिर मुझे चूमने लगी।

उसके जाने से पहले हमने दो बार और चुदाई की, फिर वह मेरी बहन के घर से चली गई।

उस वाकये के बाद मैं उसको दोबारा नहीं मिला।
फिर मैंने बहुत बार इस चुदाई के बारे में सोचकर मुठ मारी लेकिन मजा नहीं आ रहा था।

एक दिन मैं ऐसे ही मुठ मारने के लिए चुदाई के वीडियो देख रहा था।
तब मुझे दिल्ली सेक्स चैट वेबसाइट के बारे में पता चला।

मुझे यहां पर दिल्ली की एक हॉट गर्ल मिली जो लगभग मेरी कज़न सिस्टर के जैसी दिखती थी।
उसका नाम अनुश्री था।
DSC Girl Anushree

मैं उससे चाहता था कि वो ठीक वैसा ही रोल प्ले करे जैसा मैंने अपनी कज़न सिस्टर की चुदाई के दिन अनुभव किया था।
तो मैंने इस वेबसाइट पर एक अकाउंट बना लिया।

मैंने बैंक कार्ड से क्रेडिट खरीदे और सेशन खरीद लिया।

अनुश्री से मैंने इस बारे में बात की और वो तैयार हो गई।
हमने अपना प्राइवेट सेशन शुरू किया।

अनुश्री ने रूम में उस रात की तरह ही अंधेरा रखा हुआ था लेकिन इतनी रोशनी थी कि मैं उसकी बॉडी को कैमरा पर साफ साफ देख सकूं।

उसने ब्लैक कलर का टाइट टॉप पहना था और नीचे कोई पैंटी नहीं डाली थी।
उसने अपने बदन को मस्त अंदाज में छूना शुरू किया और कैमरे में देखने लगी।

अनुश्री- कज़न भाई, मैं तुम्हें देखकर ही गीली हो रही हूं।
मैं- ओह वाऊ, तुम्हारी चूत बहुत सेक्सी लग रही है।
अनुश्री- ओह, सच में?
वो बैठ गई और अपनी टांगें खोल लीं।

उसने अपनी चूत के होंठ मेरे सामने खोल दिए।
उसकी चूत गुलाबी थी और डिम लाइट में एकदम से चमक रही थी।

मैंने भी अपना लंड बाहर निकाल लिया और सामने वो अपनी उंगलियों को चूसने लगी।

अनुश्री- आह! इस लंड को मेरे सामने रगड़ कर रख दो!
उसने अपनी बीच वाली उंगली और रिंग फिंगर को एक साथ अपनी चूत में डाल लिया।

जैसे जैसे वो उंगलियां उसकी चूत में अंदर बाहर हो रही थीं, चूत गीली होने की वजह से पच-पच की आवाज हो रही थी।

मैंने धीरे धीरे लंड की मुठ मारना शुरू किया।
उधर उसने भी अपने टॉप को उतार दिया।

मैं- फक! मुझे निप्पल दिखाओ यार!
अनुश्री- तुम बहुत नॉटी हो बेबी!

उसने अपना एक चूचा बाहर निकाल लिया और उस पर अपनी चूत का रस मलने लगी।
दूसरा चूचा उसके टॉप में ही फंसा हुआ था।

उसकी चूत में लगातार उसकी उंगली चल रही थी और वो चूचे को भींच भींचकर मुझे दिखाते हुए तड़पा रही थी।
कसम से … क्या रंडी थी वो!

फिर उसने मेरे लंड की ओर देखते हुए अपनी गांड को ऊपर नीचे उछालना शुरू कर दिया।
वो अपनी चूचियों को जोर जोर से भींच रही थी और उसके बाल उसके चेहरे पर बिखर गए थे।

उसकी गांड अब हवा में आ गई और वो चारों पंजों पर आकर डॉगी स्टाइल में हो गई। उसकी गांड पीछे लगे शीशे में मुझे भी दिख रही थी।

अब उसने गांड में उंगली डाल ली और दूसरे हाथ से आगे झुकते हुए अपनी चूत को रगड़ने लगी।

अनुश्री जोर से सिसकारती हुई- ओह फक! मैं बहुत गर्म हो रही हूं! मुझे चुदते हुए देखो। अपने लंड की मुठ मारो जोर से!

मैं भी उसकी चुदाई की आग को देखते हुए तेजी से लंड को फेंटने लगा।
मेरे लंड की नसें फूल गईं थीं।

सने अपनी गांड आगे पीछे करना शुरू कर दिया जैसे वो हवा से ही चुद रही हो।
उसकी चूत से निकलता रस उसकी जांघों पर बहकर आने लगा।

मैं- तुम अपना टॉप को निकाल दो और अपने पसीने से भीगे चूचों से खेलकर दिखाओ।
मैंने जैसे कहा, उसने वैसे ही किया।

उसने अपनी चूत को सहलाया और उससे निकले रस को अपनी चूचियों पर मसलने लगी। अपनी नर्म नर्म चूचियों को आपस में भींचते हुए वो मुझे दिखाने लगी।
मेरा लंड भी फटने को था और मैं तेजी से उसे रगड़ रहा था।

मैं- ओह फक, आने वाला है मेरा … आह्ह!
अनुश्री- येस! छोड़ दो अपना माल मेरे ऊपर … नॉटी, डर्टी ब्वॉय!
इतने में ही मेरा माल निकल पड़ा और लंड से भर भरकर पिचकारियां छूटने लगीं।

जब मैं थोड़ा संभला तो लंड को धीरे धीरे से मसलने लगा।
अनुश्री अपनी सुडौल बॉडी को मेरे सामने सहला रही थी।

उसके बाद मैंने शांत होकर अपनी हॉट सेक्सी मॉडल को अलविदा कहा और फिर से अपनी कज़न को मिस करने लगा।

अनुश्री के साथ मुझे बहुत मजा आया जैसे कजिन सिस्टर की चुदाई में आया था.

दिल्ली सेक्स चैट पर मैं अक्सर उसके साथ अपनी कामुक फैंटेसी पूरी करता रहता हूं।
किसी के साथ कल्पना में सेक्स करने के लिए यह सबसे बढ़िया जगह है।

अगर आप भी इसी तरह का उत्तेजना भरा और कामुक अनुभव लेना चाहते हैं तो इस पेज पर क्लिक करके इस सेक्सी मॉडल को एक बार जरूर चेक करें।

About Antarvasna

Check Also

मौसेरी बहन की कुंवारी चूत फाड़ी

दोस्तो, मेरा नाम प्रेम कुमार वर्मा है. उत्तर प्रदेश का रहने वाला हूँ. मेरी उम्र …