मैरिज ऐनिवर्सरी पर शौहर के दोस्त से चुदवाया

पोर्न भाभी फक स्टोरी में पढ़ें कि मेरे जैसी हसीन भाभी का शौहर दुबई में था और मुझे हर रोज़ लण्ड चाहिए. मेरी शादी की सालगिरह पर मुझे मेरे शौहर ने लंड भेजा तोहफे में!

यह कहानी सुनें.

Porn Bhabhi Fuck Story

मेरा नाम रेहाना खान है दोस्तो!
मैं 32 साल की हूँ, शादीशुदा हूँ और बेहद खूबसूरत हूँ।
मेरा रंग एकदम गोरा है। मेरा सच चेहरा बड़ा खूबसूरत और सेक्सी है।

मैं ऊपर वाले का शुक्रिया अदा करती हूँ कि उसने मुझे बहुत हसीन बनाया और मुझसे ज्यादा मेरा जिस्म हसीन बनाया।
मेरे जिस्म में कूट कूट कर हुस्न भर दिया है खुदा ने!
मेरा खिलता हुआ चेहरा, मेरी सुराहीदार गर्दन, मेरी गुदांज़ गोरी गोरी बांहें।
मेरे बड़े बड़े और सुडौल चूचे, मेरी पतली सी कमर, बड़े बड़े कूल्हे और उनके बीच में सेक्सी गांड सबको खूब आकर्षित करती है।

और मेरे जिस्म की तीन चीजें एकदम गुलाबी रहती हैं, पहला तो मेरे होंठ, दूसरा मेरे बूब्स के निप्पल और तीसरा मेरी मस्तानी चूत का दरवाजा।
जो भी मुझे देखता है वह बस देखता ही रह जाता है।

पर एक बात है, मैं अंदर से बड़ी अय्याश किस्म की औरत हूँ।
एकदम रंडी हूँ मैं … बिना पराये लण्ड के मैं कोई भी रात नहीं गुज़ारती।
मुझे हर रोज़ लण्ड चाहिए … वह भी पराये मरद का!
पराये मरद का लण्ड मुझसे ज्यादा मेरी चूत पसंद करती है।
जब भी मेरी चूत पराये मरद का लण्ड देखती है तो खिल जाती है, उसके चेहरे की रौनक दुगुनी हो जाती है।

नाम तो मेरा रेहाना है दोस्तो … पर आप मुझे बुरचोदी रेहाना कह सकते हैं, मादरचोद भोसड़ी वाली रेहाना कह सकते हैं।
मैं इस बात का बिल्कुल बुरा नहीं मानती क्योंकि मैं हूँ ही ऐसी! मैं छिनार भी हूँ, पराये मर्दों के लण्ड की दीवानी भी हूँ।

एक बात आपको बता दूँ यार … कि मैं ही अकेली ऐसी नहीं हूँ।
मेरी जैसी हज़ारों लाखों औरतें हैं जो ग़ैर मर्दों से भकाभक चुदवाती हैं और खूब धड़ल्ले से एन्जॉय करती हैं।

मैं यहाँ मुम्बई में रहती हूँ और एक प्राइवेट कंपनी में काम करती हूँ।

और मैं आम हिंदुस्तानी औरतों की तरह रहती हूँ न की ढकी मुंदी औरतों की तरह!
मैं बुर्का बिल्कुल इस्तेमाल नहीं करती। मैं अक्सर साड़ी और ब्रा में ही रहती हूँ जो मेरे जिस्म पर खूब जमती है।

अब मेरी शादी की सालगिरह कैसे मानी, मेरी आपबीती इस पोर्न भाभी फक स्टोरी पढ़ें.

मेरा शौहर दुबई में काम करता है, वह यहाँ आता जाता रहता है।
मेरे पास अपना फ्लैट है, कार है और सारी सुविधाएँ हैं।
जितना मैं यहाँ कमाती हूँ, उतना ही मेरा शौहर मुझे भेज देता है तो मैं खूब एन्जॉय करती हूँ, अय्याशी करती हूँ।

मेरी मैरिज ऐनिवर्सरी आयी तो सवेरे सवेरे मेरे शौहर का फोन आ गया।
उसने मुझे मुबारकबाद दी और मैंने उसे!

वह बोला- यार, मैं इस मौके पर तेरे साथ नहीं हूँ। पर मेरा एक दोस्त फज़ल तेरे पास आ रहा है। तुम उसे मेरी जगह इस्तेमाल करना। तुम उससे चुदवाकर अपनी मैरिज ऐनिवर्सरी मना लो। मैं यहाँ उसकी बीवी चोद कर ऐनिवर्सरी मनाऊंगा।

मैं उसकी बात मना गयी और फज़ल का इंतज़ार करने लगी।

बस आधे घंटे में ही वह आ गया।
उसे देख कर मैं तो मस्त हो गयी।

क्या मस्त जवान मरद था वह … न टोपी न दाढ़ी, बिल्कुल मेरे शौहर की तरह था वह!

मैं बस उसके लण्ड के दीदार का इंतज़ार करने लगी।

उसने आदाब बोला और मैंने भी!

मैंने उसे बड़े आदर से बैठाया और उसका खैरमकदम किया।

वह मुझे देख कर बहुत खुश नज़र आ रहा था, वह बोला भी- भाभी जान, आप तो बहुत ज्यादा खूबसूरत हैं। माशाल्ला ज़न्नत की हूर नज़र आ रही हो तुम!
मैंने शुक्रिया बोला, मैंने कहा- तुम भी तो बड़े हैंडसम जवान हो।

नाश्ता वगैरह करने के बाद मैं उसके पास बैठ गयी।
जब उसने प्यार से मेरे गाल थपथपाये तो मैंने भी उसका हाथ पकड़ लिया।

उसने मेरी चुम्मी ले ली, पहले माथा चूमा फिर गाल चूमे और फिर होंठ भी।
फिर उसने रख दिया अपना हाथ मेरी चूचियों पर … तो मैंने भी उसका लण्ड ऊपर से ही दबाकर अपनी मंशा ज़ाहिर कर दी।

उसने मेरी ब्रा का हुक खोल दिया तो मेरी चूचियाँ उसकी आँखों के सामने एकदम छलक पड़ीं।
वह बोला- वॉव … बड़े मस्ताने बूब्स हैं आपके भाभीजान। कितनी बड़े बड़े बूब्स हैं … माशाल्ला मैं तो इन्हीं में खो जाऊंगा।

उसने अपना मुंह मेरे दोनों बूब्स के अंदर घुसा दिया।
मैं भी आहिस्ते आहिस्ते उसके पाजामे का नाड़ा खोलने लगी।

पहले उसके ऊपर के कपड़े उतारे फिर अपना हाथ उसके पजामा में घुसेड़ दिया।
मेरा हाथ सीधे उसके लण्ड से टकरा गया।

मेरे मुंह से निकला- बड़ा मोटा है तेरा भोसड़ी का लण्ड मेरे राजा!
वह मेरी गाली सुनकर मस्त हो गया और मुझे चिपका लिया, बोला- हाय मेरी भाभी जान, ऐसे ही और बोलो, बोलती जाओ। मुझे सुनने में बड़ा अच्छा लग रहा है। मज़ा आ रहा है। मेरी बीवी ससुरी कुछ बोलती ही नहीं इसलिए उसे चोदने में मुझे बिल्कुल मज़ा नहीं आता।

मैंने उसका लण्ड पूरा बाहर निकाल लिया और कहा- क्या जबरदस्त लौड़ा है तेरा यार! कितना मोटा तगड़ा और सख्त लौड़ा है तेरा! मज़ा आ गया इसे पकड़ कर!। तेरी बीवी की माँ की चूत … उसकी बहन की बुर … उसको अगर ये लण्ड नहीं पसंद है तो क्या गधे का लण्ड लेगी बुरचोदी!

मेरी गालियों ने उसे और उत्तेजित कर दिया जो मैं चाहती थी।
उसने मुझे पूरी नंगी कर दिया और मेरे नंगे जिस्म से खेलने लगा।

उसका लण्ड एकदम चिकना था, झांटों का तो नामोनिशान तक नहीं था।
लण्ड का सुपारा बड़ा मनमोहक था खूबसूरत था और एकदम लाल टमाटर जैसा था।

अब मैं भी बिल्कुल नंगी थी और वह भी पूरा नंगा!

हम दोनों एक दूसरे से चिपक गए और बड़ी देर तक चिपके रहे।
फिर मैं उसका लण्ड चाटने लगी और बीच बीच में लण्ड मुंह में भर कर चूसने लगी।

वह भी मस्ती से एक प्रेमी की तरह मेरी बुर चाटने लगा, बोला- भाभी जान, क्या मस्त चूत है आपकी! इतनी बढ़िया और इतनी मस्तानी बुर आज मैं पहली बार देख रहा हूँ।

उसने मेरी चूत में जबान घुसेड़ दी। अपनी जबान से ही चोदने लगा मेरी बुर!
मैं भी उसका लौड़ा पूरा मुंह में भरे हुए अपनी जबान टोपा के चारों ओर घुमाने लगी।

वह सिसयाने लगा और मैं भी सिसयाने लगी।
दोनों को बराबर मज़ा आने लगा।

उसने मुझे बेड के किनारे घसीटा और खुद नीचे खड़ा हो गया, मेरी दोनों टांगें अपने दोनों हाथों से पकड़ लीं।
मेरी चूत उसके सामने एकदम खुली हुई थी।

उसने लण्ड मेरी चूत पर टिकाया और गचाक से अंदर पेलने लगा।
लण्ड सरसराता हुआ पूरा अंदर घुस गया जैसे कोई नाग अपने बिल में घुसता है।

मेरे मुँह से उफ़ निकला और फिर मैंने भी पूरा लण्ड पेलवा लिया अंदर!
उसने चोदना शुरू किया और मैंने भी कमर हिला हिला के चुदवाना शुरू किया।

उसके सामने मेरी चूचियाँ नाचने लगीं और उसे मज़ा आने लगा।
वह कभी झुक कर चोदता तो कभी तन कर चोदता।

मैंने कहा- हाय फज़ल, बड़ा मज़ा आ रहा है। तेरा लण्ड बड़ा मोटा है, मज़ा दे रहा है। तुम तो बहुत बड़े चोदू लग रहे हो! और भी बीवियों की बुर लेते हो क्या?

वह बोला- हां, मैं अपने सभी दोस्तों की बीवियां चोदता हूँ और सब लोग मेरी बीवी चोदते हैं। दुबई में कई क्लब हैं और रात भर यही होता है। खूब जम कर सामूहिक चुदाई होती है. बहुत सारी मस्त मस्त बीवियां आतीं हैं धकाधक चुदवाने! खूब सबके लण्ड पीती हैं और खूब जम कर चुदवाती हैं लेकिन आज तेरी बुर का जबाब नहीं भाभीजान। मैं जानता हूँ कि तेरा शौहर मेरी बीवी चोद रहा होगा पर उसे उतना मज़ा नहीं आएगा जितना मज़ा मुझे आ रहा है।

मुझे सच में बड़ा मज़ा आ रहा था.

वह बोला- रेहाना भाभी, चूत तो तेरी बड़ी लाजवाब है। मैं इतनी देर से चोद रहा हूँ पर वह गर्म की गर्म ही बनी हुई है।
मैंने कहा- तेरा लण्ड भी मादरचोद बड़ा स्ट्रांग है। देखो न भोसड़ी का चोदता ही चला जा रहा है, झड़ने का नाम ही नहीं लेता।

तब मैंने कहा- हाय मेरे राजा, अब तू मुझे ठीक से चोद ले। पूरा लौड़ा घुसा घुसा के चोद ले, अपने अरमान निकाल निकाल के चोद ले।
वह बोला- हां यार, आज मैं तेरी बुर ढीली करके ही मानूंगा। तू भोसड़ी वाली बड़ी चुड़क्कड़ है! तेरी माँ की चूत … अब देखता हूँ कि तेरी बुर कैसे नहीं पानी छोड़ती … इसकी तो मैं माँ चोद दूंगा। आज तक मैंने किसी बीवी की माँ नहीं चोदी लेकिन आज रेहाना की माँ चोदूंगा।

उसने चुदाई की रफ़्तार दूनी कर दी। अंदर तक चोट करने लगा उसका लण्ड! मेरी चूत का भरता बनाने लगा लण्ड!
मुझे लगा कि लौड़ा कहीं मेरे मुंह तक न आ जाये।

वह माँ का लौड़ा धक्के पे धक्के मारे जा रहा था और फिर ऐसा मुकाम आ ही गया जहाँ मेरी चूत ढीली हो गयी।
लण्ड साला मेरी चूत में चारों तरफ से चिपक कर आ जा रहा था। इतना मज़ा मुझे पहले कभी नहीं आया।

मैंने कहा- हाय मेरे राजा, मेरे मन का है तेरा ये बेटीचोद लण्ड! मुझे इसी तरह के लण्ड पसंद है।

फज़ल ने मुझे फिर घोड़ी बनाकर पीछे से चोदा और लण्ड पे बैठा के भी चोदा।
मैं भी धक्के पे धक्के लगा रही थी लेकिन वह साला झड़ ही नहीं रहा था। मैं तो हैरान थी उसके लण्ड की ताकत देख कर!

आखिर मैं पहले खलास हो गयी और उसे पता चल गया।
वह बोला- रेहाना, आज तेरी चूत ने मुझे बड़ा मज़ा दिया। तेरी चूत खलास करके मुझे बड़ा मज़ा आया।

फिर मैं घूम गयी और लण्ड की मुट्ठ मारने लगी।
उसका लण्ड भी साला मक्खन उगलने लगा.
मैं तुरंत चाटने लगी झड़ता हुआ लण्ड!

एक बार चोद कर फज़ल जाने वाला था लेकिन मैंने फज़ल को रोक लिया और रात में उससे 3 बार चुदवाया।

फज़ल मुझे चोद कर गया और चुदाई की मीठी मीठी यादें मेरी चूत में छोड़ कर गया।
उसका मस्ताना लण्ड मुझे बहुत दिनों तक याद आता रहेगा।

इस तरह मैंने ग़ैर मर्द के लण्ड के साथ मनाई अपनी मैरिज ऐनिवर्सरी।

पोर्न भाभी फक स्टोरी आपको अच्छी लगी होगी.
मुझे मेल और कमेंट्स में बताएं.
[email protected]

सेक्सी लेखिका की पिछली कहानी थी: चुदक्कड़ बीवियां एक दूसरी को लंड भेजती हैं

About Antarvasna

Check Also

जवान लड़की की कहानी: जयपुर की रूपा की अन्तर्वासना-5

This story is part of a series: keyboard_arrow_left जयपुर की रूपा की अन्तर्वासना-4 keyboard_arrow_right जवान …