बहन भाई ने पार की हद-1

मेरा नाम सुमना है। मैं ऑनर्स फर्स्ट ईयर में पढ़ रही हूं। मेरे बड़े भाई का नाम रशीद है। वह ऑनर्स के तीसरे वर्ष में हैं। हम दो भाई-बहन एक ही यूनिवर्सिटी में पढ़ते हैं। हमारी कक्षाएं सुबह 11 बजे शुरू होती हैं। हम दोनों भाई-बहन एक साथ यूनिवर्सिटी जाते हैं। पिता जी और मां ने विश्वविद्यालय आने-जाने की सुविधा के लिए एक मोटरसाइकिल खरीदी। भाई मोटरसाइकिल चलाता है, और मैं भाई के पीछे बैठ कर यूनिवर्सिटी जाती हूं।

मेरे पिता और मां दोनों सरकारी नौकरी में हैं। इसलिए वे रोज सुबह 8:30 बजे ऑफिस के लिए घर से निकल जाते हैं। पापा और मम्मी के ऑफिस चले जाने के बाद मैं और मेरा भाई नहाये और तैयार होकर यूनिवर्सिटी चले गये। चूंकि हमारे घर में एक ही कॉमन बाथरूम है, तो पहले मैं नहा कर तैयार हो जाती हूं। फिर मेरा भाई नहाने जाता है। आमतौर पर लड़कियों को तैयार होने में थोड़ा अधिक समय लगता है, इसलिए मैं पहले नहाती हूं।

हम दोनों भाई-बहन यूनिवर्सिटी चले गए तो घर पर ताला लगा हुआ था। घर के गेट की चाबी हम सब के पास है। मैं और मेरा भाई क्लास ख़त्म करके शाम करीब साढ़े चार बजे घर आये। शाम को करीब छह बजे पापा और मम्मी घर आ गये। इस तरह मैंने हर दिन एक निश्चित दिनचर्या के अनुसार बिताया। लेकिन एक घटना ने मेरी जिंदगी पूरी तरह बदल दी।

हर दिन की तरह पापा, मम्मी, भाई और मैंने साथ में नाश्ता किया। मेरे पापा और मम्मी तैयार होकर ऑफिस चले जाने के कुछ देर बाद मैं नहाने के लिए बाथरूम में घुस गयी, और बाथरूम का दरवाज़ा बंद कर दिया। आमतौर पर मैं अपने सारे कपड़े उतार देती हूं, और पूरी तरह नग्न होकर शॉवर के नीचे खड़ी होकर नहाती हूं।

उस दिन मैंने बाथरूम का दरवाज़ा बंद किया, और सबसे पहले घूंघट खोल कर एक तरफ रख दिया। उसके बाद मैं अपने कपड़े उतार कर साइड में रखने ही वाली थी, कि मुझे बाथरूम के दरवाजे के नीचे से एक परछाई आती हुई महसूस हुई। मैं वहां केवल काली ब्रा और पायजामा पहने खड़ी थी। मैं थोड़ा डरी हुई थी। फिर भी मैंने सोचा कि यह मेरे मन की भूल थी।

फिर मैंने अपनी ब्रा उतार कर एक तरफ रख दी। तुरंत ही मेरे 34″ साइज़ के दूध उछल कर बाहर आ गये। उसके बाद मैंने अपना पायजामा उतार कर एक तरफ रख दिया। मेरी क्लीन शेव बोडी और सुडौल गांड किसी भी लड़के का दिमाग खराब करने के लिए काफी है। मैं पूरी नंगी हो गई और शॉवर के नीचे खड़ी हो ग‌ई और शॉवर चालू कर दिया। शॉवर के पानी से मेरा सिर भीग गया, और मेरे दूध, नितंभों, और गांड पर बह गया। अपने पूरे शरीर को अच्छी तरह से भिगोने के बाद, मैंने शॉवर बंद कर दिया और साबुन ले लिया।

सबसे पहले मैंने अपने दूध पर अच्छी तरह से झाग बना ली। उसके बाद मैंने अपने पैर फैलाये, और चेहरे पर साबुन लगाते समय मैंने देखा कि बाथरूम के दरवाजे के नीचे एक परछाई घूम रही थी। मुझे लगने लगा कि शायद कोई बाथरूम के दरवाज़े से मुझे नहाते हुए देख रहा था। लेकिन इस बार घर पर मेरे और मेरे भाई के अलावा कोई नहीं था। तो क्या भाई दरवाजे से मुझे नहाते हुए देख रहा था?

जैसे ही मुझे भाई की बात याद आई, तो मैं शर्म से पलट गई। उस वक्त मैंने सोचा कि अभी तक भाई सामने से मेरे दूध और भोसड़ा देख सकता था, लेकिन ज्यादा होशियारी से मुड़ने की वजह से अब भाई मेरी पूरी पीठ समेत मेरी गांड भी देख सकता था।

मुझे बहुत शर्म महसूस हुई। मैंने तुरंत सोचा शायद भाई मुझे रोज़ दरवाजे के छेद से नहाते हुए देखता था। मैंने पहले कभी ध्यान नहीं दिया। अगर ऐसा था, तो मुझे नहीं लगता कि मेरे शरीर ने इसके लिए कोई जगह छोड़ी थी। अगर मेरे भाई ने मेरा पूरा बदन देख लिया, तो अब शर्म से क्या होगा। लेकिन मुझसे गलती हो सकती थी। हो सकता था दरवाजे की दूसरी तरफ कोई भाई ना हो।

शायद लाइट की रोशनी के बाद कोई परछाई नजर आती हो। इसलिए मैंने इन बुरे विचारों को एक तरफ रख दिया, शॉवर चालू कर दिया, अपना स्नान पूरा किया, और अपने कपड़े पहन लिए। जैसे ही मैंने घूंघट उठाया और अपनी छाती पर डाला, मैंने दरवाजे के नीचे से परछाई को हिलते हुए देखा। फिर मेरा शक गहरा गया। मैं नहा कर अपने कमरे में आ गई और तैयार होने लगी। उधर भाई कुछ देर बाद तैयार हो गया, और मुझे यूनिवर्सिटी जाने के लिए बुलाने लगा।

मैं और मेरा भाई घर का दरवाज़ा बंद करके यूनिवर्सिटी के लिए निकल गये। आम तौर पर हर दिन मैं मोटरसाइकिल पर अपने भाई के पीछे बैठती हूं, और अपना बैग उसके और मेरे बीच छोड़ देती हूं। लेकिन आप क्या सोचते हैं कि उस दिन मैंने अपना बैग अपने पीछे छोड़ दिया था? नतीजा यह हुआ कि मेरे भाई और मेरी छाती के बीच तीन-चार इंच का फासला रह गया। मोटरसाइकिल चलाते समय जब भाई ने ब्रेक मारा, तो मेरे दोनों दूध भाइ की पीठ से रगड़ खा रहे थे।

शायद मैं उस दिन एक अलग ही दुनिया में खोई हुई थी। उस दिन यूनिवर्सिटी से लौटते समय मैं जान-बूझ कर भाई की पीठ पर अपने दूध दबा रही थी। उस दिन का एहसास इतना अच्छा था कि उसे शब्दों में बयां नहीं किया जा सकता।

अगली सुबह से मैं सोचने लगी कि कैसे यकीन करूं कि मेरे भाई ने मुझे बाथरूम के दरवाज़े से नहाते हुए देख लिया था या नहीं। बहुत सोचने के बाद मुझे एक विचार आया। मेरे पापा और मम्मी के ऑफिस चले जाने के बाद मैंने अपने मोबाइल कैमरे में वीडियो रिकॉर्डिंग चालू की, और उसे बाथरूम के बाहर ऐसी जगह छोड़ दिया, जहां अगर कोई मुझे बाथरूम के दरवाजे के बाहर लीक से नहाते हुए देखे तो उसकी रिकॉर्डिंग हो जाए।

कैमरा वहीं छोड़ कर, मैं नहाने के लिए बाथरूम में चली गई, और दरवाज़ा बंद कर लिया। मैं अपने कपड़े उतार कर नंगी हो गई, और दरवाजे की ओर देखा तो मुझे कोई परछाई दिखाई दी। नहाने के बाद मैं बाथरूम से निकली, और अपना मोबाइल फोन लेकर अपने कमरे में चली गई। मैंने वीडियो शुरू की और देखा कि जैसे ही मैं बाथरूम में घुसी और दरवाज़ा बंद किया, मेरा भाई बाथरूम के दरवाज़े के छेद से देखने आया, और अपनी पैंट को कमर से नीचे घुटनों तक नीचे कर दिया, और एक हाथ से अपने लंड को खींचने लगा।

भाई की डिश देख कर मुझे बहुत लालच आ गया। बहुत मोटा था भाई का। भैया ने बाथरूम के दरवाज़े के छेद से देखा, और जल्दी से अपनी पतलून पहनी और बाथरूम के दरवाज़े के सामने से निकल गये। उसके कुछ देर बाद मैं बाथरूम से बाहर आई। वीडियो देख कर मैं गर्म हो गई। मैंने अपने कपड़े उतार दिए, और शीशे में अपने स्तन देखने लगी। कुछ देर तक दूध को हाथ से हिलाने के बाद मेरे मन में एक बुरा विचार आया।

मैंने अपने मोबाइल फोन पर वीडियो रिकॉर्डिंग शुरू कर दी। यह मेरे सिर से कमर तक दिखाई दे रहा था। वीडियो में मेरे दोनों स्तन और नाभि साफ़ दिख रही थी। मैंने अपने एक दूध को हाथ से पकड़ लिया और बोली-

मैं: मैं तुम्हारी छोटी बहन हूं। अगर तुम्हें मुझे देखना पसंद है तो तुम सीधे मुझे देख सकते हो भाई। चोर की तरह बाथरूम के दरवाज़े से घुसने की ज़रूरत नहीं है। आई लव यू भाई।

मैंने फ़्लाइंग किस के साथ वीडियो रिकॉर्डिंग बंद कर दी। मैं और मेरा भाई विश्वविद्यालय के लिए निकले। मैंने भाई को मोटरसाइकिल के पीछे से गले लगा लिया, और सोचने लगी कि भाई को अपना वीडियो कैसे दिखाऊं। तब भाई ने कहा किरे सुमना, डरती हो क्या?

मैंने कहा: नहीं भाई।

भाई बोला: तो फिर तुमने मुझे इतनी जोर से क्यों पकड़ लिया?

मैंने कहा: भाई पकड़ना अच्छा लग रहा है।

पूरे दिन पढ़ाई करने के बाद मैं दोपहर को घर लौटी। मेरा दिमाग पूरे दिन दौड़ता रहा। मुझे समझ नहीं आ रहा था कि मैं अपने भाई को अपनी वीडियो कैसे दिखाऊं। रात के लगभग ग्यारह बजे मैं बिस्तर पर लेटी करवटें बदल रही थी। बिल्कुल नींद नहीं आती। मैंने अपना वीडियो चालू किया, और फिर से देखा। दिल में बहुत हिम्मत करके मैंने अपना वीडियो अपने भाई के मोबाइल पर भेजा। लगभग पंद्रह मिनट बीत गए लेकिन वीडियो नहीं देखा गया। मैं सोचने लगी कि भाई वीडियो क्यों नहीं देख रहा था। मैं बार-बार देखने लगी।

लगभग एक घंटा बीत गया लेकिन वीडियो नहीं देखा गया। तो भाई सो गया है या नहीं? एक रात बीत गई लेकिन मुझे कोई जवाब नहीं मिला। मैं निराश होकर सो गई। अगले दिन सप्ताहांत होने के कारण पापा, मम्मी, भाई और मैं, हम सब घर पर ही रह गये। हम सब ने एक साथ नाश्ता किया।

नाश्ते के दौरान मैंने अपने भाई में कोई बदलाव नहीं देखा। इसका मतलब था कि भाई ने अभी तक मेरी वीडियो नहीं देखी थी। सुबह दस बजे मैं अपने कमरे में बैठी थी। अचानक मेरे मोबाइल पर एक मैसेज आया। मैंने मोबाइल फोन उठाया और देखा कि मेरे भाई ने एक मैसेज भेजा था।

भाई ने मैसेज में क्या लिखा था, और आगे क्या हुआ, वो आपको कहानी के अगले भाग में पता चलेगा। अगर आपको यहां तक की कहानी पढ़ कर मजा आया हो, तो कमेंट में अपने विचार ज़रूर लिखें। आपकी फीडबैक पा कर में अगली कहानी को और बेहतर तरीके से लिख पाऊंगा। कहानी पढ़ने के लिए आप सब का धन्यवाद।

[email protected]

अगला भाग पढ़े:- बहन भाई ने पार की हद-2

About Antarvasna

Check Also

Maa aur dada ji ka romance dekha-2

Hello friends, aap sabhi ka welcome hai meri story ke next part mein. Ab tak …