पहले भाभी को फिर बहन को चोदा

हॉट इंडियन भाभी सेक्स कहानी में मैंने अपनी भाभी को चोदा. भाभी पेट से हो गयी तो डॉक्टर ने चुदाई के लिया मना कर दिया. तो भाभी ने मेरे लिए चूत का प्रबंध किया.

दोस्तो, यह कोई कहानी नहीं बल्कि सच्चाई है।

मेरे घर में मेरे मम्मी पापा और भैया भाभी और एक बड़ी बहन धारा है।

मेरी भाभी एकदम शरीर से सोनाक्षी सिन्हा की तरह दिखती हैं। उनका फिगर 36-34-32 का है,

मेरी बहन धारा 21 वर्ष की हैं और और उसका बदन पूरी तरह से भरा हुआ है। बड़े बड़े बूब्स और गोल मटोल गांड।

मेरे भैया की शादी की 2 वर्ष हो चुके हैं लेकिन मेरी हॉट इंडियन भाभी को अभी तक एक भी बच्चा नहीं है।

भैया फोटोग्राफर हैं, कैमरा चलाते हैं. शादियों में रिकॉर्डिंग का काम होने के कारण उनको ज्यादातर रातों में ही जाना पड़ता है।
इसी कारण से मेरी भाभी उनसे खुश नहीं हैं क्योंकि भैया रात में बहुत कम घर रहते हैं सप्ताह में 2 दिन।

मैंने भी अपनी पढ़ाई पूरी कर ली है और अब मैं भी भैया भाभी के पास दिल्ली में आ चुका हूं।

मेरी और भाभी के बीच बहुत ज्यादा बातचीत होती थी जिससे हम लोग ज्यादा घुल मिल चुके थे।
वे भी कभी-कभी मुझसे मजाक कर दिया करती थी और मैं भी।

मेरी बहन भी भैया भाभी के साथ दिल्ली में ही रहती है।

एक दिन की बात है जब मेरी भाभी पौंछा लगा रही थी और मैं टीवी देख रहा था।
तभी उनका पल्लू गिर गया और उनके बड़े-बड़े बूब्स दिख रहे थे।
मेरी नजर पड़ी तो मेरी आंखें फटी की फटी रह गई।

भाभी ने मेरी तरफ देखा तो मैं अनदेखा करते हुए टीवी पर देखने लगा।
लेकिन मेरी पैंट के अंदर मेरा औजार पूरा खड़ा हो चुका था।

भाभी ध्यान से उसको देख रही थी।
तो मैं वहां से उठ कर भाग गया और अपने बेडरूम में चला गया।

मेरे और भाभी के बीच काफी कुछ बदल चुका था। दोनों के देखने का नजरिया बिल्कुल अलग हो गया था।
हम दोनों एक दूसरे को कामुकता की नजर से देखने लगे।

1 दिन की बात है जब भाभी बाथरूम में नहा रही थी तो मैंने खिड़की से देखा.
भाभी बिल्कुल नंगी थी, वे अपने बड़े बड़े बूब्स मसल रही थी।

मैंने पहली बार किसी औरत ऐसे देखा था इसलिए मेरी सांसें तेज हो गई और मेरे मुंह से ‘ओह माई गॉड’ निकल गया।

तभी भाभी ने मुझे देख लिया और मैं तुरंत वहां से भाग गया।
अब मैं डर गया था कि भाभी ने कहीं भैया को सब बता दिया तो!

शाम को खाना खाने के बाद भाभी रूम में आयी और बोली- राज, तुम सुबह क्या देख रहे थे?
मैं बिल्कुल डरा हुआ था इसीलिए कुछ नहीं बोला।

तभी उन्होंने कहा- इसमें डरने की कोई बात नहीं है, इस उम्र में यह सब होता है। अब नहीं होगा तो कब होगा?
मैंने उनकी बात सुनी तो मैं चौंक कर उनकी तरफ देखने लगा।

तभी उन्होंने मेरा हाथ पकड़ कर कहा- तुम अब 20 वर्ष के हो चुके हो और इस उम्र में यह सब आम बात है।

तो मैंने उत्तेजित होकर पूछा- मतलब आपको बुरा नहीं लगा?
भाभी ने कहा- बिल्कुल नहीं राज! बल्कि मैं तो चाहती हूं कि तुम्हें वह मिले जिसके तुम लायक हो चुके हो।

मैंने जानबूझकर अनजान बनते हुए पूछा- कौन सी चीज?
भाभी ने कहा- देखो राज, तुम्हारे भैया सप्ताह में सिर्फ दो रात ही घर आते हैं और उस समय में भी मुझे असली सुख नहीं दे पाते। मैं अब क्या करूं? मेरी भी कुछ जरूरतें हैं या नहीं!

और भाभी रोने लगी और मेरे सीने से चिपक गई।
उनके दोनों बड़े बड़े बूब्स मेरी सीने पर टच हो रहे थे जिसके कारण मेरे शरीर में एक करंट सा दौड़ने लगा।

मैंने भाभी को चुप कराया और बोला- आप चिंता मत करो, मैं भैया से बात करूंगा!
तो भाभी बोली- कोई फायदा नहीं, उनके अंदर मुझे खुश करने की शक्ति ही नहीं है। तुम ही कुछ कर सकते हो.

तभी मेरी बहन वहां आ गई और बोली- क्या हुआ?
तो भाभी ने बात बदलते हुए कहा- कुछ नहीं, थोड़ी चोट लग गई है।

और मेरी बहन भाभी को लेकर उनके रूम तक चली गई।

मैं सोने जा रहा था पर मुझे नींद ही नहीं आ रही थी, भाभी की कही हुई एक एक बात याद आ रही थी।

उस समय करीब 12:00 बज रहे थे।

मैं भाभी के रूम गया और भाभी को अपनी बांहों में पकड़ कर चूमने लगा।
तभी भाभी पूरी तरह से बेड पर लेट गई और मेरा साथ देने लगी।

थोड़ी देर बाद भाभी उठी और कमरे की लाइट जलाकर खिड़की को बंद कर दिया और अपने सारे कपड़े उतार दिए।
हॉट इंडियन भाभी मेरे सामने बिल्कुल नंगी थी, उनके बड़े-बड़े बूब्स और बड़े तरबूज जैसी गांड देखकर मेरा लन्ड खड़ा हो गया।

तभी भाभी आई और भूखी बिल्ली की तरह मुझको भी पूरी तरह से नंगा कर दिया और मेरा 7 इंच का औजार लेकर चूसने लगी।

भाभी पूरी तरह से मेरे औजार को अपने मुंह में लेने की कोशिश कर रही थी।

करीब 15 मिनट लगातार मेरा हो जाओ चूसने के बाद मेरे सारा माल अपने मुंह में पी गई।
तब भाभी ने मुझे अपनी योनी चाटने को कहा।

मैं भी उनकी दोनों चूचियां दबाने लगा और वो जोर जोर से सीत्कार लेने लगी।

मैंने अपना मुंह उनकी गुलाबी योनि पर रखा और अपनी जीभ से चाटने लगा.
और वो भी मेरा पूरा लंड अपने मुंह में लेने लगी।

फिर मैंने अपने औजार को तेल लगाया और जोरदार धक्का लगाया और पूरा औजार उसकी चूत में समा गया।

भाभी जोरदार सिसकारी ‘उम्मह ओह मर गई … औहह बस … बबबस’ निकलने लगी।

मैंने अपनी स्पीड बढ़ाई और भाभी को चोदने लगा. लगातार स्पीड बढ़ती जा रही थी और उनकी सिसकारियां तेज होती जा रही थीं।

मैंने काफी देर उनकी चूत की चुदाई की और फिर उनको घोड़ी बनाया और उनकी चूत में अपना लोड़ा सेट किया और जोरदार धक्का लगाया और पूरा औजार उनकी चूत में समा गया।

कुछ मिनट की लगातार चुदाई के बाद पच-पच की आवाज आने लगी।

इस तरह रात में मैंने उनके साथ दो बार संभोग किया और फिर उनकी चूत में ही झड़ गया।

हम दोनों अपने अपने रूम में आया और सो गए।

सुबह जल्दी उठकर मैं स्नान आदि करने लगा।

और जब मैं अपने रूम में आया तो भाभी चाय लेकर आई और आकर मेरी गोद में बैठ गई.
भाभी बोली- कैसा लगा रात को मेरे सैंया जी?
मैंने कहा- बहुत मजा आया मुझे!

“और आपको?” मैंने पूछा.
भाभी बोली- आज एकदम असली सुख मिला है. आप तो अपने भाई से ज्यादा ताकतवर निकले. मेरी चूत की चटनी बना कर रख दी।

हम दोनों ने एक दूसरे को किस किया।

फिर मैंने कहा- अब आप जाइए, नहीं तो धारा देख लेगी।
और भाभी किचन में चली गई।
मैं टीवी देखने लगा।

तभी भैया आए और भाभी को आवाज लगाई.
भाभी किचन से आई और बोली- आप रूम में चलो, मैं नाश्ता लेकर आती हूं।

भैया भाभी अपने रूम में चले गए और नाश्ता करने लगे।
धारा भी अपनी कॉलेज जा चुकी थी।

दोपहर का समय था, मैं पानी पीने जा रहा था तो मुझे कुछ आज सुनाई दिया।

मैंने जाकर देखा तो भाईया भाभी को नंगी करके चोद रहे थे।
और फिर भाई तुरंत झड़ गए.
जिसके कारण भाभी गुस्सा हो गई और बोली- क्या यार … सारा मूड खराब कर दिया!

तभी मैं वहां से चला गया।

रात को 8:00 बजे भैया अपने काम पर चले गए।
हम लोगों ने खाना खाया और अपने अपने रूम में आ गए।

तभी लगभग 2 घंटे बाद भाभी मेरे रूम में आई और बोली- क्या बात है, आज अकेले सोएंगे?
मैंने कहा- नहीं मेरी रानी, आपके बिना मुझे नींद कहां आती है.
और मैंने अपनी बांहों में उनको पकड़ कर बिस्तर पर गिरा दिया।

भाभी ने पिंक कलर की नाइटी पहनी हुई थी।
नाइटी को मैंने निकाला तो उसके अंदर कुछ नहीं पहना हुआ था।

भाभी एकदम नंगी हो गई और मैं उनकी बदन को चूमने लगा।

तभी भाभी ने मेरे पैन्ट खोल दी और मेरा औजार लेकर चूसने लगी।
मैंने उनके दोनो स्तनों को खूब दबाया और पिया।

भाभी पूरी तरह से गर्म हो चुकी थी और बोल रही थी- राज, लोहा गर्म है, अब देर मत करो!
फिर मैंने उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए और उसके बूब्स दबाने लगा।

मैंने अपना औजार उनकी योनि में सेट किया और जोरदार धक्के लगाने लगा।
मैं भाभी की चूचियों को दबाने लगा.

दोनों के बीच लगभग आधा घंटा नॉन स्टॉप सेक्स चलता रहा।
फिर मैंने भाभी के दोनों पैरों को अपने कंधों पर रखा और धीरे धक्का लगाया और कहा- तुम मुझे खूब मज़ा देती हो।

भाभी तेज तेज सांसें ले रही थी और बोल रही थी- और चोदो … मुझे मार डालो! मेरी फाड़ डालो।

तभी मैंने भाभी को घोड़ी बनाया और उनकी गांड मैं अपना मुंह रख कर उसे चाट कर अपना औजार डालकर करीब 15 मिनट धक्का लगाने के बाद दोबारा उनकी योनि में अपना लौड़ा सेट किया और खूब धक्का लगाने लगा।

लगभग 10 मिनट के बाद मैंने अपना पूरा माल उनकी चूत में छोड़ दिया।

ऐसे ही हम लोगों ने रात में दो बार संभोग किया.
और भाभी बोली- राज आई लव यू।
मैंने भी ‘आई लव यू टू’ कहा.
फिर मैंने उनको बोला- आप जाइए, सो जाइए।

भाभी जाकर अपने रूम में सो गई।

सुबह भैया आए तो भाभी ने कहा- आज मेरा मूड नहीं है।
क्योंकि भाभी का मन तो पूरी तरह से भर चुका था।

ऐसे की काफी दिन चला.

और फिर एक दोपहर में भाभी को उल्टी होने लगी।
भैया उनको डॉक्टर के पास ले गए तो डॉक्टर ने कहा- घबराने की कोई बात नहीं है, आप पिता बनने वाले हैं।
तो भैया भाभी दोनों घर आए।

भाभी ने मुझे और धारा को सब बात बताई कि वे मां बनने वाली हैं।
मैं बहुत खुश था।

दोस्तो, पर मुझे यह नहीं पता था यह बच्चा मेरा ही है।

जब रात को भाभी मेरे कमरे में आई तो उन्होंने कहा- क्या बात है मेरे छोटे सैंया जी! जो काम आपके भैया 2 साल में नहीं कर पाए वह आपने थोड़े दिनों में कर दिया?
मैंने कहा- मतलब यह बच्चा!
भाभी ने कहा- हां यह बच्चा आपका ही है। तुम इसके असली पिता हो।

मैं बहुत खुश हुआ और भाभी को अपने गले से लगा कर चूमने लगा।
और फिर भाभी को नंगा करके संभोग करने लगा।

चुदाई के बाद मैंने अपना माल भाभी के मुंह में दे दिया।
ऐसे ही करीब एक महीना लगातार चलता रहा।

एक दिन भाभी ने कहा- राज, डॉक्टर ने कहा है कि लोग आप लोग रोज संभोग नहीं करें. नहीं तो बच्चा खराब हो सकता है।
मैं उदास हो गया।

तभी भाभी ने कहा- चिंता मत करो, बस 9 महीने की तो बात है।
उसके बाद फिर करेंगे।

मैंने भाभी को अपनी बाहों में लेकर कहा- 9 महीने तो दूर मैं अब 9 दिन भी नहीं रह सकता।
तभी भाभी ने कहा- तुम चाहो तो तुम्हारे पास एक और चीज है।
मैंने कहा- क्या?
उन्होंने कहा- धारा!

मैंने कहा- कैसी बात कर रही हैं आप? वह मेरी बड़ी बहन है. मैं उसके साथ करने तो दूर सोचता भी नहीं हूं!
तो भाभी ने कहा- राज, अब सोचना पड़ेगा क्योंकि ज्यादा 21 वर्ष की हो चुकी है. उसकी पूरी जवानी भरी हुई है और ऐसे में कहीं दूसरी जगह उसका चक्कर चला गया तो पूरा परिवार का मुंह काला हो जाएगा. क्या ऐसा नहीं हो सकता कि घर की इज्जत घर में रह जाए!

मैंने कहा- वह सब तो ठीक है और क्या धारा मानेगी?
भाभी ने कहा- उसकी चिंता मत करो, धारा को मैं मना लूंगी।
मैं खुश हो गया और कहा- ठीक है, शाम को मिलेंगे।

शाम को खाना खाने के बाद हम लोग बातचीत कर रहे थे।

तभी भाभी जी ने धारा से पूछा- आपका कोई बॉयफ्रेंड है?
तो दीदी ने कहा- नहीं! पर आप यह सब क्यों पूछ रही हो?
भाभी बोली- तो फिर आपका फिगर इतना बोल्ड कैसे हो गया?

धारा ने कहा- क्या भाभी, आप भी पहले देख लिया करो सामने कौन बैठा है?
भाभी ने उठकर धारा का दुपट्टा खींच दिया और मेरे सामने फेंक दिया.

जब धारा दुपट्टा उठाने के लिए झुकी तो उसके गोल गोल टाइट बूब्स नीचे लटकने लगे।
और फिर भाभी ने मजाक में उसके शर्ट खींचा तो फट गया।
धारा की ब्रा दिखने लगी.

उसने काले रंग की ब्रा पहनी हुई थी जिसके अंदर उसके गोल गोल बड़े बड़े बूब्स बेचैन हो रहे थे।

तभी धारा को गुस्सा आ गया और वह भूल गई कि मैं उसके सामने बैठा हूं.
उसने भाभी की नाइटी फाड़ दी और भाभी केवल ब्रा और पेंटी में हो गयी।

तो भाभी ने कहा- धारा, मैं जो कर सकती हूं वह तुम नहीं कर सकती।
उसने गुस्से में कहा- कर सकती हूँ!

भाभी ने मुझे किस किया और बोली- अब तुम कर के दिखाओ।
धारा मुझे किस करने लगी।

मैंने भी धारा को अपनी बांहों में पकड़ा और चूमने लगा.
धारा गर्म हो रही थी।

मैंने उसकी ब्रा निकाली और उसके बूब्स मुंह में लेकर चूसने लगा.
और एक हाथ से मैंने उसकी सलवार पैंटी को निकाल दिया।

मैं धारा को नंगी करके अपने रूम में उठाकर ले गया और दरवाजा बंद करके उसको बेड पर लिटा दिया और उसकी गुलाबी कोमल योनि को चाटने लगा।
धारा पूरा मजा ले रही थी.

तभी मैंने अपना औजार धारा के मुंह में दिया तो उसने मना कर दिया।

मैंने अपने औजार पर तेल लगाया, उसकी योनि में सेट करके जोरदार धक्का लगाया तो मेरा आधा औजार उसकी योनि में चला गया और वह जोर-जोर से रोने लगी।
पहली बार संभोग करने के कारण उसकी योनि से खून निकल रहा था।

वो रोने लगी और कहने लगी- छोड़ दो।
मैंने हल्का हल्का धीरे-धीरे धक लगाना शुरू किया और उसके स्तनों को पीने लगा.

थोड़ी देर बाद उसका दर्द कम हुआ।
मैंने फिर से स्पीड बढ़ा दी।

अब धारा को भी मजा आ रहा था और वह जोर जोर से सिसकारियां ले रही थी।
जिसके कारण पूरा कमरा गूंजने लगा।

मैं उसकी कमर को पकड़ उसकी चूत में अपना लन्ड लगाकर जोर जोर से चोदने लगा जिसके कारण वह खूब मजे से सिसकारियां ले रही थी।

फिर मैंने उसको गोद में उठाया और उसके योनि में अपना औजार सेट किया और उसको ऊपर नीचे करने लगा।

काफी देर की लगातार चुदाई के बाद मैं उसकी चूचियों पर झड़ गया।
रात में हम लोगों ने दो बार संभोग किया और फिर सो गए।

जब सुबह उठे तो धारा को चलने में परेशानी हो रही थी, उसकी योनि पूरी तरह से फट चुकी थी।
तभी भाभी बोली- क्या धारा कली से फूल बन गई?
धारा उनको देखकर मुस्कुरा दी।

तभी भाभी ने पूछा- मजा आया या नहीं?
धारा बोली- भाभी, बहुत मजा आया।

अब मैं रात को रोज अपनी बहन धारा के साथ संभोग करता हूं।
और कभी-कभी भाभी की गांड भी मारता हूं।

आपको यह हॉट इंडियन भाभी सेक्स कहानी कैसी लगी?
[email protected]

About Antarvasna

Check Also

होने वाली भाभीजान की वर्जिन चुत को चोदा

अन्तर्वासना के पाठकों को मेरा नमस्कार. मेरा नाम राहुल मुख़र्जी है, मेरी उम्र 22 साल …