नए साल की रात शादी से पहले सुहागरात- 2

हॉट कॉलेज गर्ल Xxx कहानी में मेरी गर्लफ्रेंड ने मुझे अपनी कुंवारी बुर की चुदाई के लिए बुलाया. मैं भी गर्लफ्रेंड की चुदाई करने के लिए बहुत एक्साइटेड था।

दोस्तो, मेरा नाम सुमित है। मैं कुरुक्षेत्र, हरियाणा का रहने वाला हूं।

मैं आप लोगों को अपनी सेक्स स्टोरी बता रहा था जिसके पहले भाग
कमसिन लड़की के दोस्ती और प्यार
में आपने पढ़ा कि कैसे मेरी दीदी की सहेली की छोटी बहन के साथ मेरी सेटिंग हुई।

हम लोग सेक्स वीडियो कॉल से लेकर चूमा-चाटी और लंड-चूत चूसने तक सब कुछ कर चुके थे, बस चुदाई बाकी थी।
नए साल की रात को उसका कॉल मेरे पास आया। वो घर पर अकेली थी और चुदने के लिए पूरी गर्म हो रखी थी।

अब आगे की हॉट कॉलेज गर्ल Xxx कहानी:

वो नए साल के पहले की रात थी जब उसने मुझे अपने घर चूत चुसवाने के लिए बुलाया।
जल्दी से तैयार होकर मैं उसके घर के लिए निकल गया।

चूत चोदने के लिए इतनी ज्यादा उत्तेजना हो रही थी कि कोई तूफान, कोई पहाड़ मुझे आज रोक नहीं सकता था।

हवस में नहाया हुआ मैं जल्दी से जल्दी उसके घर पहुंचने की कोशिश कर रहा था।
लगभग 10 बजे का समय था, उसके घर के पास जाकर मैंने उसको कॉल किया।

शिखा- कहां हो मेरी जान?
मैं- तुम्हारे घर के सामने हूँ।
शिखा- ओके, मैं बाहर की लाइट बंद कर रही हूँ, जैसे ही मैं गेट खोलूं तुम जल्दी से अंदर घुस जाना।

मैंने ओके बोला और जैसे ही गेट खुला मैं घुस गया अंदर।

उसके कमरे में जाते ही मैंने उसे बहुत जोर से गले लगाया और उस पर चुम्बनों की बरसात कर दी।
वो भी मुझे पागलों की तरह किस कर रही थी।

शिखा- रुको मेरी जान, पूरी रात है हमारे पास। आराम से प्यार करेंगे, आज कोई जल्दी नहीं है।
मैं रुक गया और उसे गले लगा कर उसके पास बेड पर बैठ गया।

शिखा- आई लव यू मेरी जान, मैं इस दिन का कब से इंतजार कर रही थी।
कहते हुए वो मेरे गले लग गई।

हम दोनों के होंठ पास आते गए और कब हमारी स्मूच शुरू हो गई हमें पता ही नहीं चला।
पागलों की तरह हम एक-दूसरे को चूसने लगे और चूसते-चूसते बेड पर लेट गए।

हम पहली बार बेड पर लेटकर स्मूच कर रहे थे। कभी वो मेरे ऊपर, कभी मैं उसके ऊपर … मैं उसके बूब्स को उसके ट्रैक सूट के ऊपर से ही दबा रहा था।

फिर मैंने उसके मुँह में अपनी जीभ डाल दी और उसके ट्रैक सूट की चेन खोलकर उसकी ब्रा में हाथ डालकर उसके बूब्स दबाने लगा।
फिर हम दोनों रुके, एक-दूसरे की आंखों में देखा और बेड से उठ कर जल्दी जल्दी एक दूसरे की बॉडी पर किस करते हुए कपड़े उतारने लगे।

शिखा ने मेरे सारे कपड़े उतार दिए, मेरा अंडरवियर भी।
मगर मुझे अपना लोअर उतारने से रोक दिया क्योंकि वो जानती थी अगर लोअर उतर गया तो हम नहीं रुक पाएंगे और चुदाई पक्का हो जाएगी।

उसने मुझे बेड पर लिटा दिया और लोअर के ऊपर से मेरा लण्ड पकड़ कर मेरे पास लेट गई।

मेरी जीभ को चूसते हुए वो मेरे लण्ड पर हाथ फिराते हुए, उसे कस कर पकड़ते हुए उसके साथ खेलने लगी।
शिखा- जान मुझे खा जाओ आज प्लीज, मेरे निप्पल्स को चूसो। मुझे आज वो मजा दो जिसके लिए हम इतने दिनों से तड़प रहे थे।

मैंने उसे अपने नीचे लिटा दिया और उसके ऊपर लेट कर अपना लण्ड उसकी चूत पर रगड़ने लगा और उसके निप्पल को चूसने लगा।

मैं उसकी टांगें खोल कर उसकी चूत पर अपना लण्ड रगड़ रहा था तो वो इतनी ज्यादा गर्म हो गई कि उसका चेहरा लाल हो गया और वो जोर-जोर से आंहें भरने लगी।

मैंने उसके पेट पर लोअर के ऊपर से ही अपना लण्ड रगड़ना शुरू कर दिया।
वो तड़पती हुई बोलने लगी- खा जाओ … मुझे चूसो।

उसके निप्पल्स पर मैंने अपना लण्ड लगाया और उसने मुझे नीचे लिटा दिया।
उससे रुका नहीं गया और उसने अंडरवियर समेत लोअर को खींचकर मुझे नीचे से पूरा नंगा कर दिया लेकिन लोअर और अंडरवियर घुटनों तक फंसी रही।

उसने लंड को देखा तो एक कामुक भाव उसके चेहरे पर दिखने लगा।
अगले ही पल उसके होंठ मेरे लंड को अपने अंदर समा चुके थे।
वो मेरे लण्ड को जोर-जोर से पागलों की तरह चूसने लगी।

फिर दो मिनट तक खूब जोर से चूसने के बाद लंड बाहर निकालकर बोली- जान, आज मैं तुम्हारे लण्ड को खा जाऊंगी।

मैंने कहा- मुझे भी तुम्हारी चूत को खाना है, प्लीज लोअर उतारकर मुझे अपनी चूत दे दो।
मेरे लण्ड को उसने जोर से काटा जिससे मेरी चीख निकल गई।

उसने मुँह से लण्ड निकाल कर बोला- नहीं, प्लीज … अगर लोअर उतरा तो मैं तुमसे चुदे बिना नहीं रह पाऊंगी और शादी से पहले मैं नहीं चुदना चाहती प्लीज!
मैंने उसे कहा- जैसा आप कहो मेरी जान।

फिर मैंने उसे ऊपर खींचा और उसके निप्पल चूसने लगा।
वो मेरे ऊपर लेट कर अपनी चूत को मेरे लण्ड पर रगड़ रही थी।

उसकी चुदास पूरी भड़की हुई थी।
वो अपने बूब्स को बार बार मेरे होंठों पर दबा रही थी और सिसकारते हुए कह रही थी- आह्ह … खा लो इनको … आह्ह चूस लो पूरे … दूध निकाल दो इनका … आह्ह जान … जल्दी से मुझसे शादी कर लो … मुझे तुम्हारा लंड अपनी चूत में चाहिए है!

शिखा की ऐसी चुदास भरी बातें सुनकर मैं बहुत ज्यादा गर्म हो गया।
मैंने जोश में उसे पकड़ा और उसे नीचे लिटा कर उसकी टांगें खोल कर अपनी कमर पर रख लीं, फिर उसकी चूत के ऊपर अपने मोटे और लंबे लण्ड को रगड़ने लगा.

वो पागलों की तरह मुझे जगह-जगह काट रही थी।

अचानक से उसने मुझे रोक दिया और मुझे कहा- प्लीज सुमित, अब तुम रुक जाओ और चले जाओ, नहीं तो आज सब गलत हो जाएगा।
मैंने उसे समझाया कि नहीं होगा कुछ प्लीज … इससे आगे नहीं कुछ करूंगा, लेकिन ये तो करने दो!

शिखा- तुम्हें लगता है कि नहीं बढ़ेंगे?
कहकर उसने मेरा हाथ अपनी लोअर के ऊपर से अपनी चूत पर रखवाया।

उसकी चूत पूरी गीली हो गई थी।

वो मुझे अपने ऊपर से हटा कर बोली- ये मेरी आखिरी हद है बर्दाश्त करने की। अगर एक मिनट और तुम मेरे ऊपर लेटे या मेरे साथ रहे तो सब कुछ हो जाएगा, प्लीज सुमित … तुम जाओ।

मैं हैरान होकर देख रहा था उसे!
मेरे तो खड़े लण्ड पर डंडा लग गया था।
लेकिन प्यार की वजह से मैंने उसे कुछ नहीं कहा और चुपचाप खड़ा हो गया।

मैं बेड से उतरकर अपने कपड़े पहनने लग गया।

वो बेड पर ही बैठी थी।
मैंने उसे गले लगाया और हैप्पी न्यू ईयर विश करके निकल गया।

मुझे निकले पांच मिनट हुए थे।
अभी रास्ते में ही था कि शिखा का फ़ोन आया कि वापस आओ।

मैंने कहा- नहीं प्लीज, मैं तुम्हारी बहुत इज़्ज़त करता हूँ और जान से ज्यादा प्यार करता हूँ। मैं सेक्स की आग में पागल हो गया था, मुझे ध्यान रखना चाहिए था। आई एम सॉरी … (मुझे माफ कर दो)

इस पर उसने मुझे डांट दिया और कहा कि अभी के अभी वापस आओ।
मैं चला गया वापस!

जब उसके कमरे में घुसा तो वो कम्बल ओढ़कर लेटी हुई थी।

शिखा- अपने सारे कपड़े उतारो और कम्बल में आओ।
मैं- प्लीज यार शिखा, जैसे तुमसे कंट्रोल नहीं हो रहा, ऐसे ही मुझसे भी कंट्रोल नहीं हो पाएगा।
शिखा- जो कहा है वो करो। मुझसे प्यार करते हो ना … तो जल्दी से कपड़े उतारो और कम्बल में आओ।

मैं कपड़े उतारने लगा।
जब मैंने अपना अंडरवियर उतारा तो मेरा लण्ड अभी भी खड़ा था।

शिखा उसे देख कर बोली- इस बेचारे का क्या कसूर है, इसे तो इसकी खुराक मिलनी चाहिए ना!

अब तक मैं बिल्कुल नंगा हो गया था।
उसने मुझे प्यार से अपनी बांहों में आने को कहा।

मैं कंबल में घुस गया तब मुझे पता लगा कि शिखा भी अंदर पूरी तरह से नंगी होकर लेटी है।

उसने अपना लोअर और पैंटी उतार रखी थी।
मैं पीछे हटने लगा तो उसने मुझे अपने ऊपर खींच लिया और मुझे किस करके बोली- आई लव यू, आज मुझे पता चल गया कि तुम मुझसे कितना प्यार करते हो। अगर तुम चाहते तो मुझे चोद सकते थे। लेकिन मेरे एक बार मना करने के बाद तुमने मेरा लोअर भी नहीं उतारा। मेरे एक बार कहने पर ही चुपचाप बिना कुछ कहे चले गए। मुझे यकीन है कि तुम मुझे कभी धोखा नहीं दोगे। आज मुझे चोद दो सुमित, मुझे आज तुम्हारा लण्ड अपनी चूत में चाहिए … प्लीज आज मुझे सारी रात चोदो … इस मोटे और लंबे लण्ड को मेरी चूत की गहराई में उतार दो।

ये कहकर उसने मुझे स्मूच किया और अपनी दोनों टाँगें मेरी कमर पर जकड़ लीं।

मैंने पहली बार उसकी चूत को महसूस किया था अपने लण्ड से, जैसे ही लण्ड उसकी चूत पर टच हुआ उसकी चीख सी निकल गई।
मैंने उसे कहा- शिखा, मैं तुम्हारी चूत को चूसना चाहता हूं।

वो बोली- ठीक है जान, आज ये शिखा तुम्हें अपनी चूत का अमृत चखवायेगी।
कहकर उसने कंबल हटा दिया और मुझे उसकी चूत के दर्शन हुए।

उसकी चूत एकदम गीली होकर रस से भरी भरी लग रही थी।

मैंने जल्दी से उसकी चूत पर मुंह लगा दिया और पागलों की तरह चूत को होंठ और जीभ से चूसने लगा, उसकी चूत के रस को अपने मुंह में खींचने लगा।
शिखा एकदम से पागल हो उठी और सिसकारने लगी- आह्ह … ओह्ह जान … हय … आआ आआह … मेरी चूत … सुमित … आह्ह … आई लव यू आईई … आह्ह खा लो इसको … स्ससीसी … आह्ह चूसो जान!

उसकी ये कामुकता देखकर मैं भी जैसे पागल हुआ जा रहा था।
वो जोर जोर से मेरे सिर को उसकी चूत में दबा रही थी।

काफी देर हो गई मुझे, लेकिन चूसने से मन नहीं भर रहा था।

शिखा की हालत खराब होने लगी और वो बोली- बस … जान निकलने वाली है मेरी सुमित … चोद दो प्लीज … मुझे प्लीज चोद दो … मैं मर जाऊंगी लंड के बिना … प्लीज मेरी चूत को फाड़ दो आह्ह … चोदो जान!
उसकी ये हालत मुझसे भी देखी न गई और मैंने जल्दी से लंड को चूत पर सेट कर दिया।

मैंने धक्का दिया तो चिकनी चूत में लंड फिसलकर अंदर चला गया लेकिन 1 इंच तक ही।
चूत काफी टाइट थी।

मैंने थोड़ा और धकेला तो उसकी चीख निकल गई- आआईई … आराम से यार … दर्द हो रहा है, कितना मोटा है तुम्हारा!

अब मैंने थोड़ा धैर्य से काम लिया और लंड को रोक लिया।
फिर जब उसकी टांगें थोड़ी और खुलने लगीं तो लंड को चूत में रास्ता मिलने लगा।
मैंने थोड़ा और धकेला तो लंड आगे सरका।

हर इंच के साथ उसका दर्द और बढ़ रहा था लेकिन धीरे धीरे मैंने लंड को पूरा उसकी चूत में उतार लिया।
वो मुझसे लिपट गई और मुझे बुरी तरह से चूमने लगी।

वो शायद अपने दर्द को भुलाने की कोशिश कर रही थी।

मैंने कहा- क्या हुआ जान?
वो बोली- कुछ नहीं, तुम पर बहुत प्यार आ रहा है!

मैंने कहा- प्यार तो अभी तुम देखने वाली हो मेरी जान … आह्ह … क्या टाइट, गर्म चूत है तुम्हारी … आई लव यू मेरी जान।
कहकर मैंने धीरे-धीरे उसकी चूत में लंड को आगे पीछे करना शुरू किया तो वो चिल्लाने लगी- आआआई मम्मी … बहुत मोटा और लम्बा है यार तुम्हारा … आह्ह फट जाएगी लगता है।
मैंने कहा- तुम चिंता मत करो, अपनी जान को प्यार से चोदूंगा।

फिर मैंने उसकी चूत में धक्के लगाने दोबारा से शुरू कर दिए।

अब 2 मिनट के बाद लंड को चूत ने एडजस्ट कर लिया और अब चुदाई में मजा आने लगा।

अगले 2-3 मिनट चुदने के बाद ही शिखा ने मेरे चूतड़ों को थाम लिया और उनको चूत की ओर धकेलने लगी।
मैं जान गया कि उसको अब लंड लेने में पूरा मजा मिल रहा है।

अब उसने मेरे सिर को अपनी ओर खींच और मुझे जीभ निकालने को कहा।

मैंने जीभ निकाली और वो उसे लंड की तरह चूसने लगी।
उसका ऐसे करना मेरे लंड में और ज्यादा कड़कपन ले आया।

मेरे धक्के और तेज हो गए।
मैं अब पूरी तेजी से उसे चोद रहा था और वो पूरा मजा लेकर आह्ह जान … आह्ह सुमित करके मुझे उकसा रही थी।
कुछ देर उसकी चुदाई करने के बाद मैंने उसे पलटा लिया।

अब वो पेट के बल लेट गई और मैंने उसके पेट के नीचे तकिया सरका दिया।
इससे उसकी गोरी गद्देदार गांड ऊपर आ गई और चूत उभर कर दिखने लगी।
चूत में अंदर से रस लगातार बाहर आ रहा था।

अब मैंने पीछे से लंड को डाला और उसके ऊपर लेटकर चोदने लगा।

मेरा हाथ उसके मुंह के पास था तो उसने मेरे हाथ को पकड़ा और मेरी उंगली अपने मुंह में ले ली।
लंड से चुदते हुए अब वो मेरी उंगली को चूस रही थी।

उसको उंगली चुसवाते हुए मुझे उसे चोदने में और ज्यादा उत्तेजना महसूस हो रही थी।
फिर दो मिनट चोदने के बाद मैंने उसे खींचकर दोहरा कर लिया यानि कि उसको घोड़ी की पोजीशन में ले आया।

मैंने उसकी कमर को थामा और घुटनों से मोड़ते हुए उसको खड़े होकर चोदने लगा जैसे घोड़ा अपनी घोड़ी पर चढ़कर चोदता है।
अब मेरी स्पीड बहुत ज्यादा थी और वो भी पूरी मस्ती में लंड से चुद रही थी।

लगभग 20 मिनट उसको चोदने के बाद मेरा माल छूटने को हो गया।
मैंने कहा- जान … आह्ह … आने वाला है, कहां लोगी?
वो बोली- मुंह में पिलाना जानू!

मैंने एकदम से लंड को निकाल लिया तो उसने भी पलटने में देर न की।
वो एकदम से मेरे लंड को मुंह में लेकर चूसने लगी।

बस दो चोपे मारे थे कि लंड से माल निकलकर उसके मुंह में पिचकारी लगने लगीं।
वो सारे वीर्य को चट कर गई।

फिर हम दोनों निढाल होकर गिर गए।
कुछ देर हमने आराम किया, फिर कुछ खाया और फिर दोबारा से हो गए शुरू!

सुबह के 4 बजे तक मैंने शिखा को 4 बार चोदा। उसकी चूत सूजकर पाव रोटी हो गई थी।

फिर मैं सुबह होने से पहले वहां से निकल गया।

ये थी शिखा के साथ पहली चुदाई की कहानी, जो मैंने नए साल की रात में उसके साथ सुहागरात मनाई थी।

दोस्तो, आपको ये हॉट कॉलेज गर्ल Xxx कहानी कैसी लगी, मुझे जरूर अपने संदेशों में लिखना।
कमेंट्स में अपनी राय दें और मुझे आप ईमेल भी कर सकते हैं।
मेरा ईमेल आईडी है- [email protected]

About Antarvasna

Check Also

कॉलेज गर्ल की चुत चुदाई पहले ही दिन

अन्तर्वासना के सभी पाठकों को मेरा नमस्कार और सभी चुदी/अनचुदी पाठिकाओं की चुत को मेरा …