दगाबाज पति से बदला लिया बेवफा करके

डर्टी फक का मजा लिया पति की बेवफाई से नाराज पत्नी ने पति के दोस्त के साथ खुला गंदा सेक्स करके! पति का दोस्त भी अपनी बीवी की बेवफाई से गुस्से में था.

मेरे प्यारे पाठको,
मेरी पिछली कहानी
प्रमोशन के बदले दोस्त की सेक्सी पत्नी को चोदा
में आपने पढ़ा कि समीर ने अपने दोस्त की बीवी को प्रमोशन देने के लिए लम्बी चुदाई की मांग रखी. जिसे उसने खुशी से मान लिया और दोनों कुछ बहाना बना कर चले गए कुछ दिन के लिए.
इसी बीच समीर की पत्नी को शक हुआ तो उसने अपने पति के दोस्त से बात की.
उनका शक यकीन में बदल गया.

अब आगे डर्टी फक का मजा:

रीना- ओह चोदू समीर … यह प्रमोशन एग्जाम तो काफी कठिन था. पर देखो, मैंने इसे कैसे पास किया।
समीर- ओह बहन की लोड़ी … प्रमोशन तो तेरा हो जाएगा। लेकिन इंक्रीमेंट भी अच्छा लेना है या नहीं?

रीना- अब तुम्हारे नीचे आकर तुम्हारा लंड ले ही चुकी हूँ. तो वो सब लेकर जाऊंगी जो तुम देने की औकात रखते हो।

समीर- औकात तो मैं बहुत कुछ देने की रखता हूँ। पर क्या तुम्हारी औकात है इस इंक्रीमेंट की परीक्षा को पास करने की?
रीना– आजमा के देख लो। चूत में है दम, फिर रीना किसी से नहीं है कम!

समीर- चूत का दम तो प्रमोशन दे चुका … अब तेरी गांड का दम तुझे इंक्रीमेंट दिलाएगा।

रीना– क्या मतलब गांड का दम? सोचना भी मत इसके बारे में!
समीर- ओह बहन की लोड़ी … अभी तो डींगें हाँक रही थी। मेरा लंड देख कर ही गांड फट गई?

रीना– समीर, प्लीज यार गांड मत मारो! भेनचोद तुम फाड़ डालोगे। मैंने कभी कराया नहीं है ये!
समीर– यार देखो न आज करवा के! प्रमोशन इंक्रीमेंट इतनी आसानी से तो नहीं मिलता जानेमन!

रीना- ओके बहनचोद मार ले … तू भी क्या याद रखेगा।
समीर- याद तो तू रखेगी कि आज जिस कुर्सी पर बैठी है वहाँ बैठने के लिए अपनी गांड में मेरा लंड लेकर बैठी थी।

तब समीर ने रीना को घोड़ी बनाया और थोड़ी चिकनाई वाली क्रीम लेकर रीना की गांड के छेद में और अपने लंड के टोपे पर लगाई।
फिर धीरे धीरे रीना के गांड के छेद पर अपना लंड सहलाने लगा.

करीब पांच मिनट के बाद रीना की गांड में धीरे धीरे लंड का टोपा घुसाया.
रीना ने अपने दांत भींच लिए और हाथों से बेड की चादर जकड़ ली।

जैसे ही लंड का टोप अंदर गया, रीना दर्द से सिहर उठी और खुद को आगे खिसकाने के लिए कोशिश करने लगी ताकि समीर का लंड बाहर आ जाए.
लेकिन समीर ने रीना की कमर पकड़कर पूरा लंड रीना की गांड में ठोक दिया।

रीना- ओह मादरचोद … बस बस बस! थोड़ी देर कुछ मत करना, ऐसे ही रहने दे।

समीर ने रीना के बात को समझते हुए कोई हरकत नहीं की।
कुछ मिनट रुकने के बाद समीर ने रीना से कहा- धीरे धीरे करूं?
रीना ने हाँ में सर हिलाया।

समीर ने धीरे धीरे हिलना शुरू किया और फिर धीरे धीरे अपनी गति तेज करता गया और रीना की गांड मारने लगा।

और फिर भयानक तेज गति से रीना की गांड की भी वाइल्ड चुदाई की.

धीरे धीरे रीना भी समीर का गांड चुदाई में साथ देने लगी।

और फिर समीर रीना की कसी हुई गांड में बह गया और सारा माल रीना की गांड में छोड़ दिया।

रीना- तो आज मैंने सारे एग्जाम पास कर लिए न जानू!

समीर- हाँ मेरे जान, आज इस वाइल्ड फकिंग में बहुत मजा आया. लेकिन यह तो बस शुरुआत है. अभी तो हमने पांच रात और पांच दिन साथ गुजारने हैं।

रीना- मुझे भी कहीं बाहर घूमने नहीं जाना। बस शाम सवेरे दिन रात चुदाई ही करनी है। मजा आ गया समीर।

यह समीर और रीना की इस टूर की पहली चुदाई थी.
इस तरह उन्होंने इस टूअर में भरपूर चुदाई की।

अब आपको ले चलते हैं कवि और सीमा के पास उनकी पहली चुदाई की दास्तान सुनाने के लिए।

सीमा ने रात के अंधेरे में कवि के लिए दरवाजा खोल दिया और कवि चुपचाप सीमा के घर में दाखिल हो गया.
तब दोनों अब सीमा समीर के बेडरूम में थे।

जैसे ही कवि बेड रूम में घुसा, सीमा ने कवि को आलिंगन में बांध लिया और दोनों ने कस के एक दूसरे की गले लगाया.
कवि ने इस आलिंगन में सीमा के बूब्स का जायजा अपने सीने पर दबा कर लिया।

सीमा- आई रियली मिसिंग दिस कवि … वैसे तो मुझे तुम पहले से पसंद थे. मैंने तुम्हारे साथ सेक्स करने का सोचा भी था. लेकिन यह नहीं पता था कि हमारे साथियों की बेवफाई के कारण यह करना मुमकिन हो पाएगा। आज तुम मेरी बांहों में हो!
कहकर अपने होंठों को कवि के होंठों के हवाले कर दिया।

दोनों एक दूसरे के चुम्बन में खो गए।
उनका चुम्बन इतनी शिद्दत वाला था कि दोनों करीब 4 मिनट तक एक दूसरे के लबों को चूसते रहे और लप लप पुच पुच की आवाज आने लगी।

जब दोनों के होंठ एक दूसरे से जुदा हुए तो कवि ने कहा- वैसे तो हर मर्द पराई बीवियों के साथ सेक्स की कल्पना करता ही रहता है. इसलिए मैंने भी तुम्हारे साथ सेक्स की कल्पना की थी. रीना और समीर की जगह शायद हम होते तो हम भी वो सब करते ही!

सीमा- सच कहा … मैं भी शायद ही ऐसा मौका जाने देती! जब हम दोनों किसी दूसरे शहर में अकेले होते और सेक्स न करते।

कवि ने बात करते करते सीमा को कपड़ों से विहीन करना शुरू कर दिया।
उसकी ब्रा और चड्डी भी उतार कर सीमा को पूर्ण नग्न कर दिया और उसकी नंगी काया को निहारने लगा।

सीमा भी पराये मर्द की आंखों द्वारा खुद को निहारते हुए पाकर अपनी चूत से चिकनाई छोड़ने लगी.
उसके निप्पल तने हुए थे।

कवि ने अच्छे सांचे में ढले हुए सुंदर सुडौल स्तन हाथ में लिए और उनको अपने हल्के हाथों से मसलने लगा।
फिर सीमा को बिस्तर पर गिराकर एक हाथ में स्तन और एक स्तन मुंह में लेकर बारी बारी मजा देने और लेने लगा।

सीमा ने कवि को भी पूर्ण नग्न होने का आग्रह किया और दोनों एक दूसरे के आलिंगन में समा गए।

कवि ने सीमा के स्तनों के बाद सीमा की पीठ, पेट और गर्दन को जी भर के चूमा चाटा।

सीमा ने भी कवि को मन भरकर चुम्बन किए।

कवि ने सीमा से 69 में आने के आग्रह किया।
सीमा ने कहा- यह तो मेरी बेस्ट पोजिशन है!

दोनों 69 की अवस्था में आ गए।

जब दोनों एक दूसरे के गुप्तांगों को मुंह के समीप लाए तो खुद पर काबू न कर सके।

कवि ने सीमा की चूत को जोरदार तरीके से चूसना चाटना शुरू कर दिया और अपनी पूरी जीभ से सीमा की चूत चोदन करने लगा।
सीमा को कवि की जीभ ने इतना उत्तेजित किया कि उसने उतनी ही तेज गति से कवि का लंड जल्दी जल्दी चूसना शुरू किया ऊपर नीचे ऊपर नीचे।

दोनों का मुख चोदन इतना निपुण था कि दोनों का चरमसुख करीब आ गया।

69 में कवि ऊपर था और सीमा नीचे!

सीमा के चूसने से कवि इतना उत्तेजित हुआ कि अब ऊपर से सीमा की मुंह में झटके देने लगा.

इसी के साथ उतनी ही जोर से अपनी जीभ से सीमा की चूत चोदने लगा।

सीमा ने भी कवि के लंड के झटकों को अपने मुंह में सहजता से लिया और दोनों एक साथ एक दूसरे के मुंह में झड़ गए।

दोनों फिर सीधा होकर एक दूसरे की बांहों में लेट गए.

सीमा- मैंने आज तक ऐसा नहीं किया!
कवि- कैसा?

सीमा- समीर के पानी को पिया नहीं कभी … लेकिन आज पता नहीं इतनी उत्तेजना कहा से आई कि कुछ याद ही नहीं रहा! पर जो भी था, यह सब मस्त था।
कवि- मैंने भी चूत तो बहुत चाटी है रीना की … लेकिन कभी चूत का पानी अंदर गटका नहीं … सच में आज तो मजा आ गया।

सीमा- क्या हम दूसरे सेशन के लिए तैयार है?
कवि- हाँ बस थोड़ा सुसु आया है, फ्री करके आता हूँ।

सीमा- वाव एक मिनट … मैंने कुछ पोर्न फिल्म में देखा है कि आदमी औरत के ऊपर पेशाब करता है. क्या आज वो अनुभव भी ले लूं?
तुम समझ लेना कि जिसके पति ने तुम्हारी बीवी को चोदा है, तुमने उस पर मूत दिया।

कवि- वाह, क्या आइडिया है! मुझे तुम पर मूतने में बड़ा मजा आयेगा … यह देखना बड़ा उत्तेजक होगा। हालांकि मैंने भी ऐसा कभी किया नहीं!

दोनों उठकर बाथरूम में चले गए।

सीमा घुटनों के बल नीचे बैठ गई।
कवि ने अपने मूत की धार सीमा के स्तन से शुरू की.
उसका पेशाब सीमा के स्तन पर टकराकर सर तर्र की आवाज से पेट से होता हुआ चूत तक जाकर नीचे गिरने लगा।

फिर वह धार को सीमा के गले से होते हुए सीमा के चेहरे पर मारने लगा.
सीमा ने आनन्द में अपनी आंखें बंद कर लीं।

इस तरह कवि सीमा ने यह डर्टी फक का नया अहसास प्राप्त किया।

कवि- कैसा लगा नया अनुभव?
सीमा- मजा आ गया … तुम्हें बता नहीं सकती कि कितना!

कवि- क्यों नहीं बता सकती? चलो अब मेरी बारी … मुझे भी तुम अपने गर्म गर्म मूत की धार से भीगा दो।
सीमा ने कहा- क्यों नहीं … मजे ले सकती हूँ तो दे क्यों नहीं सकती।

अब कवि नीचे लेट गया.
सीमा ने अपने आपको कुर्सी नुमा झुका कर कवि के पूरे शरीर पर अपनी गर्म धार डाली।

इसके बाद दोनों ने एक दूसरे को शावर के साबुन से नहलाया और एक दूसरे के साथ मन भरकर चुम्मा चाटी की।
इसके बाद अपने तन की साफ सुखाकर युद्धभूमि मतलब बेड पर आ गए।

सीमा- यार समीर के साथ शादी हुए इतना समय हुआ लेकिन कभी ऐसा डर्टी फक का मजा नहीं लिया. आज तो सच में नया आनन्द मिल गया।

कवि– सच कहा सीमा, सेक्स में कुछ भी गंदा नहीं … जितना गंदा सेक्स … उतना ही ज्यादा मजा आता है।
सीमा- अब मेरी चूत से इंतजार नहीं हो रहा है। तुम्हारा लंड समीर से थोड़ा ज्यादा मोटा है. आज तो चूत में भी नयेपन की तरंग उठेगी जब तुम्हारा लंड चूत की दीवारों को रोजाना की अपेक्षा ज्यादा चिपककर अंदर बाहर होगा।

ऐसा कहकर सीमा और कवि दोनों फिर चिपक गए।

कवि कभी सीमा के लब चूसे, स्तन दबाए, स्तन चूसे, चूत को खाए, अपने होंठ को सीमा को खिलाए, होंठ को खिलाए.
तो कभी सीमा को लंड चुसवाए।

दोनों ने कसकर एक दूसरे के साथ फोरप्ले किया और फिर आखिरकार जब दोनों एक दूसरे को रोक न सके तो सीमा की गीली चूत में कवि ने अपना मोटा लंड पेल दिया।

घपाघप चुदाई की फक फक की आवाज़ सीमा की चूत से आने लगी।

सीमा जोर से चिल्लाने लगी- चोदो चोदो … जोर से … जोर से … आह आह … और जोर से … जोर से मादरचोद … रोको नहीं खुद को!

कवि की गति और जोर से बढ़ती गई।
कभी कवि ऊपर से सीमा को चोद रहा था तो कभी सीमा कवि को नीचे लिटाकर खुद ड्राइविंग करने लगी।

कवि का लंड सीमा के चूत के पानी से लबालब हो रहा था।

फिर कवि ने सीमा को घोड़ी बनाकर चोदा.
और यह चुदाई इतनी तेज थी कि कवि की जाँघों और सीमा की गांड की टकराने की आवाज़ पड़ोसी तक चली गई होगी।

सीमा चुदाई में काफी वाइल्ड होना चाहती थी इसलिए कवि को उकसा रही थी- कवि फक मी … मैं वही हूँ जिसके पति ने तुम्हारी बीवी को चोदा है, बार बार चोदा है. और अभी भी वह तुम्हारी बीवी को पति की तरह ही चोद रहा होगा। चोदो मुझे … और जोर से चोदो।

कवि सीमा की भावनाओं को समझते हुए जंगली होने लगा और डॉगी पॉज में ही सीमा की गांड पकड़ कर अपने हाथों से अपनी लंड की तरफ खींच खींच के जोरदार चुदाई करने लगा.
वह बोला- ले बहन की लोड़ी … ले तेरी चूत को फ़ाड़ डालता हूँ. जब तेरा समीर तेरी चूत देखगा तो मादरचोद पछताएगा कि उसने रीना को क्यों चोदा।

और वह जोर से झटके देने लगा।

फिर सीमा को मिशनरी स्टाइल में चोदते हुए बोला- आज तेरी चुदाई ऐसे होगी कि तू जिंदगी भर नहीं भूलेगी।

सीमा- ओह कवि, फाड़ दो … जोर से चोदते रहो … रुकना नहीं … चलने दो पता समीर को कि तुमने कैसे अपनी बीवी की चुदाई का बदला मुझसे लिया है। जोर से चोदो।

दोनों जैसे अपने चूत और लंड से बरसात करने की प्रतियोगिता कर रहे हों।

और ऐसे ही कवि और सीमा दोनों साथ बह गए.
लेकिन दोनों में इस पहली चुदाई से इतना लगाव हो गया कि दोनों ने एक दूसरे को कस कर जकड़े रखा।

कवि का लावा धीरे धीरे सीमा की चूत से बाहर बह रहा था लेकिन दोनों बस एक दूसरे के ऊपर पड़े रहे और जोर जोर से सांसें लेते रहे।

सीमा- यार कवि, मुझे ऐसी चुदाई का आनंद पहले कभी नहीं मिला। मस्त चुदाई करते हो तुम! पता नहीं क्यों रीना समीर की चक्कर में आ गई।

कवि- पराये माल की लेने और पराये माल को देने का मजा ही कुछ और होता है। मैं तुम्हें जी भर के चोदना चाहता हूँ सीमा!

सीमा- मेरा शरीर टूटने लगा है लेकिन फिर भी दिल कर रहा है, अभी कितना और मजा लिया जा सकता है।

कवि- एक काम करता हूँ, ऑफिस से इन चार पांच दिन की छुट्टी ले लेता हूँ, जब तक की समीर और रीना नहीं आ जाते। पूरे रात दिन चुदाई ही करते रहेंगे।

सीमा- पड़ोसियों को पता लगा तो?
कवि- न तुम घर से बाहर जाओगी, न मैं … कैसे पता चलेगा।

सीमा- क्या मैं भी घर से बाहर नहीं जाऊंगी?
कवि- तुम्हें कपड़े पहनने दूंगा … तब न जाओगी। चलो इन चार पांच दिन पूरे नंगे ही रहेंगे।

सीमा- क्या आइडिया है यार … मजा आएगा।

दोनों एक दूसरे की बांहों में लेटकर अपने चूत और लंड को दोबारा तैयार करने के इंतजार में बातें कर रहे हैं।

तो दोस्तो, इन चारों को इसी हाल पर छोड़ते हुए कहानी को यहीं विराम देते हैं।

आपको इनका दोस्ताना पसंद आया तो आप मुझे मेल कर के प्रोत्साहित कीजिए और बताइए कि इनके किस्से को आगे बढ़ाया जाए या नहीं!
क्या पता भविष्य में इन चारों की एक ही पलंग पर सामूहिक चुदाई की संभावना बन जाए।

डर्टी फक की इस कहानी पर आपने विचार मुझे बताएं.
आपके मेल्स के इंतजार में!
आपका राजवीर
[email protected]

About Antarvasna

Check Also

भाभी के मनमोहक शरीर की मालिश फिर भाभी की चुदाई

मेरी फुफेरी भाभी की चुदाई तब हो गई जब मुझे दो दिन अपने कजिन के …