गदराये बदन का मजा लेने की लालसा- 2

हाई प्रोफाइल कॉल गर्ल स्टोरी में पढ़ें कि मैं पड़ोस की युवा लड़की को चोदना चाहता था. पर वो एक कॉल गर्ल निकली. वो होटल में अमीर मर्दों से चुदती थी.

नमस्कार दोस्तो! मैं कोमल मिश्रा अपनी कहानी में आप सभी पाठकों का स्वागत करती हूं।
महेंद्र सिंह की कहानी का पिछला भाग
मस्त गदरायी लड़की की चुदाई की चाहत
आप लोगों ने इतना पसंद किया, उसके लिए आप सभी लोगों को दिल से धन्यवाद देती हूं।
अब कहानी में आगे चलते हैं और आगे की कहानी आप महेंद्र सिंह जी की जुबानी ही सुनेंगे।

नमस्कार दोस्तो!
मैं महेंद्र सिंह अपनी कहानी में आप सभी लोगों का स्वागत करता हूं।
कहानी के पिछले भाग में आप लोगों ने पढ़ा था कि मैं अपनी पत्नी से नाखुश था और हर लड़की और औरत को गंदी निगाह से देखा करता था।
इसके बाद जिया मेरे पड़ोस में रहने के लिए आई और मेरी पत्नी के कारण हम दोनों परिवारों में एक अच्छी दोस्ती हो गई।

अब कहानी के इस भाग में आप जानेंगे कि कैसे मैंने जिया के साथ अपनी हसरत पूरी की और मैंने कैसे जिया को चोद दिया।
तो फिर चलते हैं हाई प्रोफाइल कॉल गर्ल स्टोरी में आगे, जहां मैं आपको हर वो बात बताऊंगा जो मैंने जिया के साथ की।

तो आगे यूं हुआ कि मेरा और गुप्ता जी का परिवार काफी घुल-मिल चुके थे।
हम लोग कभी भी उनके घर चले जाते थे और वो लोग कभी भी हमारे घर आ जाते थे।
जिया कभी भी मेरे घर आ जाती थी और उसे देखने मात्र से मेरे दिल को बड़ा सुकून मिलता था।

घर पर भी जिया अक्सर एक छोटी सी टीशर्ट और लोवर ही पहनती थी जिससे उसकी टाँगें देख मेरे अंदर एक करंट सा दौड़ जाता था।

अब तो ये हाल हो गया था कि मैं अन्तर्वासना पर कहानियां पढ़ता या फिर नंगी वीडियो देखता तो मुझे हर बार बस जिया का ही ख्याल आता था और मैं रोज उसको याद करके ही मुठ मारता था। लेकिन मैं जानता था कि जिया जैसी लड़की को चोद पाना मेरी किस्मत में नहीं है।
मेरी किस्मत में बस उसके नाम की मुठ मारना ही लिखा है, ऐसा मुझे लगता था।

फिर दोस्तो, एक दिन सुबह करीब 10 बजे मैं अपनी कंपनी के लिए घर से निकला।

मैं अपनी कार से अपनी कॉलोनी के बाहर ही निकला था कि पास के बस स्टैंड पर दूर से ही मुझे जिया खड़ी हुई दिखाई दी।
शायद वो अपने कॉलेज जाने के लिए बस का इंतजार कर रही थी।

मैंने दूर से ही सोचा कि चलो आज इसे अपनी कार में लिफ्ट देकर कॉलेज छोड़ देता हूँ। शायद मेरा भी दिन बन जाए आज।

लेकिन जब तक मैं उसके पास तक पहुँच पाता, एक ऑडी कार आकर रुकी और जिया उसमें जल्दी से बैठ गई।

मैंने भी अपनी कार उस कार के पीछे लगा दी।
मैं जानना चाहता था कि वो किसके साथ कार में जा रही थी। मुझे लग रहा था कि शायद वो उसका कोई बॉयफ्रेंड होगा जिसका वो इंतजार कर रही थी।

उसकी कार आगे बढ़ती चली जा रही थी और मैं उसके बिल्कुल पीछे था।

लेकिन मुझे उस वक्त अज़ीब लगा जब उसकी कार उसके कॉलेज की तरफ न मुड़कर दूसरी तरफ मुड़ गई।
मैंने भी अपनी कार उसके पीछे लगाए ही रखी।

मेरी कंपनी का ऑफिस भी उसी तरफ था जहाँ वो लोग जा रहे थे।

करीब 20 मिनट चलने के बाद उनकी कार एक होटल की तरफ मुड़ी और होटल के अंदर चली गई।
मैंने अपनी कार होटल के गेट पर रोकी और देखने लगा।

वो होटल हमारे शहर का काफी बड़ा और मशहूर होटल था।
मैं बाहर कार में बैठे हुए उन्हें देखने लगा।

पहले कार से एक आदमी उतरा जो लगभग 45-50 साल का हट्टा कट्टा आदमी था।

उसके बाद जिया कार से बाहर निकली, लेकिन अब उसका चेहरा दुपट्टे से ढका हुआ था जबकि बस स्टैंड पर उसने ऐसा नहीं किया हुआ था।
मुझे कुछ अजीब सा लगा।

फिर वो दोनों होटल के अंदर चले गए।

ये देख फिर मैं वहां नहीं रुका, मैं भी अपने ऑफिस की तरफ चल दिया।

लेकिन दिन भर मेरे दिमाग में यही बात आती रही कि जिया कॉलेज न जाकर उस अधेड़ आदमी के साथ होटल क्यों गई।
किसी भी तरह से मुझे कुछ समझ में नहीं आ रहा था।

उसके बाद अगले हफ्ते भी मेरे साथ यही घटना हुई लेकिन इस बार अलग बात ये थी कि आदमी और कार दोनों ही अलग थे।

उसके अगले हफ्ते फिर से ऐसी ही घटना, फिर होटल वही, लेकिन आदमी अलग।

अब मुझे कुछ कुछ समझ आ रहा था कि जरूर जिया कुछ गलत काम कर रही थी।
मैंने सोच लिया था कि इसका पता तो मैं लगाकर रहूंगा। मैंने सोच लिया कि इसके बारे में सीधा जिया से ही बात करूंगा।

पिछले एक महीने में मैंने देखा कि जिया 4 बार मतलब हफ्ते में एक बार उस होटल में गई थी।

एक दिन सुबह-सुबह मैं मॉर्निंग वॉक के लिए निकला।
मैं जानता था कि जिया पहाड़ी के ऊपर तक जाती है इसलिए पहले ही पहाड़ी के ऊपर जाकर वहाँ लगे हुए बेंच पर मैं बैठ गया।

कुछ देर बाद जिया दौड़ती हुई आयी।
वो पसीने से पूरी तरह से भीगी हुई थी और आकार एक बेंच पर बैठ गई।

कुछ देर बाद जब वो नार्मल हो गई तो मैंने सोचा यही समय ठीक है जिया से बात करने के लिए।
मैं अपनी बेंच से उठा और जिया के पास चला गया।

थोड़ी देर तो मैं ऐसे ही यहाँ-वहाँ की बात करता रहा।
फिर अपने असली सवाल पर आया।

मैंने कहा- जिया मुझे तुमसे कुछ पूछना है।
जिया- जी अंकल, पूछिये?

मैं- मैंने तुम्हें कई बार रॉयल होटल में जाते देखा है। उस वक्त तुम कॉलेज के लिए घर से निकलती हो, लेकिन किसी न किसी के साथ उस होटल में जाती हो।

मेरे इस सवाल को सुनते ही उसके चेहरे की हवाइयां उड़ गईं।
उसके चेहरे का रंग ही बदल गया और वो डर सी गई।

वो चुपचाप नजर नीचे किये बैठी रही और कोई जवाब नहीं दे रही थी।

मैंने फिर से पूछा लेकिन वो कुछ नहीं बोली।
मैं बस बोलता रहा- कुछ तो जवाब दो?
लेकिन उसने कुछ नहीं कहा।

फिर मैंने उससे बोला – ठीक है, तुम नहीं बताओगी तो इसका जवाब शायद तुम्हारे पापा को पता होगा, उनसे ही पूछ लूँगा।
इतना कहकर मैं वहाँ से जाने लगा।

तभी जिया ने पीछे से आवाज दी।
जिया- रुकिये अंकल! बताती हूं।
मैं फिर से उसके पास गया और उसे देखने लगा।

वो बोली- अंकल मैं आपको बता दूँगी, लेकिन मेरी एक शर्त है … कि आप ये बात कभी किसी को नहीं बतायेंगे। ये बात हम दोनों तक ही रहनी चाहिए हमेशा!
मैंने कहा- हां, ठीक है मैं वादा करता हूँ। कभी किसी को नहीं बताऊंगा।
इसके बाद वो थोड़ी देर रुकी रही।

फिर उसने जो बताया उसे सुनकर मेरे होश उड़ गए।
जिया बोली- अंकल, मैं एक हाई प्रोफाइल कॉल गर्ल हूँ। मैं अपने कस्टमर के साथ उस होटल में जाती हूं।
मैंने चौकते हुए उससे पूछा- हाई प्रोफाइल मतलब?

वो बोली- मतलब कि मैं केवल कुछ चुनिंदा लोगों के साथ वहाँ जाती हूं जो कि करोड़पति होते हैं।
मैंने पूछा- एक दिन का कितना चार्ज लेती हो तुम? और उन पैसों की तुम्हें क्या जरूरत पड़ती है?

वो बोली- मैं हफ्ते में एक बार ही किसी के साथ जाती हूं और एक दिन का 10 हजार रुपये चार्ज लेती हूं। इन पैसों से मैं अपनी जिंदगी जीती हूं। अपने शौक पूरे करती हूं क्योंकि घर से तो मुझे इतने पैसे मिलते नहीं हैं।

मैं कुछ देर शांत रहा।
फिर उससे पूछा- मैंने तुम्हें अधेड़ उम्र के आदमियों के साथ ही देखा है।

वो बोली- जी अंकल, मैं ऐसे लोगों के साथ में ही जाती हूं क्योंकि वो लोग ही ज्यादा पैसे देते हैं। कोई अपनी बीवी से खुश नहीं है, तो किसी की बीवी नहीं है, इसलिए वो मुझे बुलाते हैं। इसमे रिस्क भी नहीं है क्योंकि उन्हें भी अपनी इज्जत बचानी है इसलिए किसी को बताते नहीं है।

मैं बोला – मतलब तुम महीने का 40 से 50 हजार कमा लेती हो?
जिया- जी हां।
मैंने एक आखरी सवाल उससे पूछा- तुम ये काम कब से कर रही हो?

वो बोली- अभी 5 महीने ही हुए हैं। और मेरे केवल चार कस्टमर हैं, इनके अलावा मैं किसी से नहीं मिलती।

मैं खड़ा होकर उसे देखता रहा और सोचा कि यार इतनी मस्त माल को तो वो लोग निचोड़ लेते होंगे, इसे तो पटक पटककर चोदते होंगे।
इसे देखने से लगता नहीं कि ये ऐसी लड़की होगी।
लेकिन ये माल बड़ी मस्त है, बिल्कुल मलाई है ये तो।

अब मैंने सोचा कि इसे चोदने का इससे अच्छा मौका नहीं मिल सकता; अगर मैंने इस मौके का फायदा नहीं उठाया तो जिया को चोदने का मेरा सपना हमेशा सपना ही रह जाएगा।
कुछ देर सोचने के बाद मैंने जिया से कहा- अगर तुम मेरी बात मानो तो मैं तुम्हें एक बात कहना चाहता हूँ।

जिया- जी बोलिये।
मैं- तुम ये सब काम बंद कर दो क्योंकि कभी न कभी इस बात का पता तुम्हारे घर पर चल सकता है जिससे तुम्हारी और तुम्हारे घर की बदनामी भी होगी। अगर तुम मेरी बात मानोगी तो मेरी तरफ से तुम्हारे लिए एक ऑफर है।
जिया- कैसा ऑफर?

मैं- जिस तरह तुम महीने का 40 हजार कमा रही हो, वो पैसे मैं तुम्हें दूँगा। बस तुम्हें करना ये है कि अब तुम किसी के साथ भी ये सब काम नहीं करोगी। तुमको मेरे साथ बस ये काम करना पड़ेगा।
ये सुन जिया मेरी तरफ आश्चर्य से देखने लगी। फिर अपना चेहरा नीचे कर लिया उसने!

इसके आगे मैंने उससे कहा- मैं तुम्हें सोचने का समय देता हूँ। तुम एक दो दिन में सोचकर मुझे बताओ। वैसे अगर तुम इसके लिए ना भी कहती हो तो मैं ये सब बातें किसी को बताने वाला नहीं हूं। तुम इसके लिए बिल्कुल निश्चिंत रहना।
इसके बाद मैं वहां से चला आया।

उसके बाद दो दिन तक जिया न तो मेरे घर आई और न ही सुबह मॉर्निंग वॉक पर आई।
मेरी उम्मीद टूट रही थी और मैंने सोच लिया था कि जिया इसके लिए तैयार नहीं हुई है।

तीसरे दिन मैं सुबह मॉर्निंग वॉक पर गया हुआ था और पहाड़ी के ऊपर जाकर अकेला बैठा हुआ था।
उस दिन भी जिया का कहीं अता-पता नहीं था।

जैसे ही मेरे जाने का समय हुआ वैसे ही जिया आती हुई दिखाई दी।
वो आयी और मेरे बगल में बैठ गई।

कुछ देर बाद उसने कहा- आपका ऑफर मुझे मंजूर है लेकिन आपको ये वादा करना होगा कि कभी भी किसी को इस बात का पता नहीं चलेगा।

मेरी तो जैसे मन की मुराद पूरी हो गई थी।
मैंने तुरंत उससे कहा- तुम बिल्कुल भी चिंता न करो। इस बात का कभी किसी को पता नहीं चलने वाला।

इसके बाद मैंने उससे कहा- मेरी कंपनी में एक जगह खाली है। अगर तुम हां कहो तो उस जगह पर तुमको रख सकता हूँ। इसके साथ तुम पढ़ाई भी करती रहना और काम भी!
इसके लिए उसने भी तुरंत हां कह दी।

जल्द ही उसने मेरी कंपनी जॉइन कर ली।

अब मैं एक मौके का इंतजार कर रहा था जिससे कि मैं जिया को चोद सकूं।

वैसे तो मैं उसे किसी भी होटल में ले जाकर चोद सकता था लेकिन मैं उसके साथ कुछ दिन बिताना चाहता था जिससे कि मैं उसकी गदराई हुई जवानी को अच्छे से चूस सकूं।

फिर एक रोज मैंने जिया से कहा कि हम दोनों को कंपनी के काम से एक हफ्ते के लिए मुंबई चलना होगा।
जिया इसके लिए तैयार हो गई।

जल्द ही मैंने दोनों की फ्लाइट टिकट बुक कर दी।
लेकिन मैं उसे सच नहीं बताया था कि हम मुंबई नहीं, गोवा जा रहे थे।

उसने अपने घर से भी इजाजत ले ली थी क्योंकि उसके घर के लोग मेरे ऊपर कभी भी शक नहीं कर सकते थे।

जिस दिन हमें जाना था, उस दिन दोपहर 1 बजे हम लोग घर से निकले।
मैंने रास्ते में जिया को बताया कि हम लोग मुंबई नहीं बल्कि घूमने के लिए गोवा जा रहे हैं।

ये सुन कर जिया मुस्कराते हुए बोली- जो काम यहाँ हो सकता था उसके लिए आप मुझे इतनी दूर ले जा रहे हैं!
इसका मतलब था कि जिया भी समझ चुकी थी कि मैं उसे चोदने के लिए ही लेजा रहा हूँ।

शाम 6 बजे हम लोग गोवा पहुँच गए।

हम दोनों होटल चले गए जो कि मैंने पहले से ही बुक करवा लिया था।
तो दोस्तो, मैं जिया को लेकर गोवा पहुंच गया था।
अब उसे चोदने के लिए मैं बस बेचैन हो रहा था।

कहानी को यहीं पर विराम दे रहा हूं।
अगले भाग में आपको बताऊंगा कि कैसे मैंने जिया की मस्त जवानी को भोगा।
उस सेक्सी लड़की की पहली चुदाई करके मुझे कैसा मजा मिला, सारी बातें विस्तार से आपको बताऊंगा।

तो फ्रेंड्स, मैं कोमल मिश्रा आपके लिए महेंद्र सिंह जी की हाई प्रोफाइल कॉल गर्ल स्टोरी का दूसरा भाग लाई थी।
उम्मीद है आपको ये भाग पढ़कर जवान लड़की की चुदाई के बारे में जानने की उत्सुकता हुई होगी।

अपनी राय अपने कमेंट्स और मैसेज में जरूर मुझ तक पहुंचाएं।
मेरा ईमेल आईडी है- [email protected]

हाई प्रोफाइल कॉल गर्ल स्टोरी का अगला भाग: गदराये बदन का मजा लेने की लालसा- 3

About Antarvasna

Check Also

रंडी की चुदाई

मैं आज आपको एक रंडी की चुदाई की कहानी बता रहा हूँ कि कैसे मैंने …