आधी घरवाली ने गांड मरवाई

साली गांड फक स्टोरी में पढ़ें कि मैं अपनी साली की चुदाई कर रहा था। मेरी बीवी सब देख लेती है। लेकिन उन दोनों ने तब कुछ ऐसा किया किमेरे पैरों तले जमीन खिसक गई।

दोस्तो, कैसे हो आप लोग! मेरी सेक्स कहानी
आधी घरवाली ने बुर की सील खुलवा ली
को इतना प्यार देने के लिए धन्यवाद।

मैं अपनी पिछली कहानी को इस साली गांड फक स्टोरी में आगे बढ़ा रहा हूं।
मेरी साली नीलू और मेरे बीच हुए सेक्स के बारे में अब मेरी बीवी सिमरन को भी पता चल गया था।

जब मैं रूम में पहुंचा तो देखा कि सिमरन जागी हुई थी.
वह मुझे देख कर बोली- हो गया सेक्स?

उसके मुँह से यह सुनते ही मेरी हालत खराब हो गई.
तभी नीलू भी आ गई.
मैं एकदम ठंडा पड़ गया था.
सिमरन की बात सुनकर मेरी और नीलू की तो गांड फट गई।

तभी नीलू सिमरन के पास गई और दोनों हंसने लगीं।
नीलू बोली- दीदी, जीजू को अब बता दो कि उनके साथ आज क्या हुआ!

अब मैं सोच में पड़ गया कि ये दोनों क्या बातें कर रही हैं।
मैं दोनों को घूरने लगा और आंखों में ही सवाल करने लगा।

तभी सिमरन मेरे पास आई और बोली- बोलो, हो गई दोनों की चुदाई!
दोनों मुंह पर हाथ रखकर हंसने लगीं।

फिर नीलू बोली- जीजू इतना नर्वस मत होइए। दीदी ने ही ये सब कुछ प्लान किया था। मुझे पता है कि आप लोगों की सेक्स लाइफ अच्छी नहीं है, और मैं ये भी जानती हूं कि दीदी आपका साथ नहीं देती है सेक्स में!

ये सब सुनकर मैं तो हैरान हो गया था।
मैं बोला- बालकनी में आओ।
हम तीनों बाहर आ गए।

मैं- अब बताओ क्या है ये सब!
सिमरन- पता है मेरे इतना सेक्सी होने का राज क्या है?
मैं- नहीं, बताओ! (मैं अभी भी हैरान था और समझ नहीं पा रहा था कि वह क्या कहने वाली है)

सिमरन- नीलू है इसके पीछे!
मैं- कैसे?

सिमरन- मैं लेस्बियन हूं, मेरे बूब्स नीलू ने बड़े किए हैं।
मैं- क्या? पागल हो? क्या बोल रही हो, तुम … और लेस्बो?

नीलू- सच्ची जीजू, आपसे ज्यादा तो इसने मेरे साथ सेक्स किया है।
मैं समझ नहीं पा रहा था लेकिन फिर भी सच को अपनाने की कोशिश कर रहा था।

मैं- तुम लोग सही में अलग लेवल की हो, अब ये बताओ सिमरन ने नीलू के साथ ये प्लानिंग किसलिए की?
सिमरन- ये प्लान हमारी पहली एनिवर्सरी पर बना था। नीलू का कॉल आया था, बोल रही थी कि दी मेरी जान … हम लोगों को सेक्स किए एक साल हो गया है।

सिमरन- मैं बोली कि बीएफ बना लो, अब दीदी के साथ कब तक सेक्स करती रहोगी।
नीलू- क्यों, आप जीजू को खुश रख पा रही हो?
सिमरन- मैं कुछ नहीं बोली इस पर।!

नीलू ने फिर कहा- दीदी, मुझे पता है, आप तो सेक्स करने नहीं देती होंगी, पर जीजू अच्छे हैं इसलिए कुछ नहीं बोलते होंगे।
सिमरन- फिर मुझे लगा कि नीलू सही कह रही है।

नीलू फिर बोली- दी, क्यों ना दोनों कोई प्लान बनाते हैं, मैं जीजू के साथ सेक्स करूंगी, और आप मेरे साथ करना। जीजू तो वैसे भी मुझे भाव नहीं देते, मैं सांवली जो हूं।
सिमरन- बहुत सोचने के बाद मैंने हां कर दी।

इनकी बातें मैंने ध्यान से सुनी।
फिर मैं बोला- तुम दोनों पागल हो।
नीलू- जीजू, आपको सेक्स करके मजा नहीं आया क्या?

मैं- लेकिन ऐसा कब तक चलेगा, शादी के बाद?
सिमरन- मादरचोद हिम्मत है किसी की मुझे या तुमको छोड़कर कोई हाथ लगा दे इसे!

इस पर हम तीनों ने तय कर लिया कि रहेंगे तो तीनों साथ, नहीं तो फिर नीलू शादी ही नहीं करेगी।

सिमरन मेरे पास आई और मुझे किस करने लगी।
मैं समझ गया था कि दोनों की ही चूत मिलती रहेगी पूरी जिंदगी!

नीलू- अब सुबह हो रही है, सबके जागने का टाइम हो गया है, थोड़ी देर सो लेते हैं।
शादी का माहौल था, सब अब जागने वाले थे।

उसके बाद हम तीन दिन काम में पूरी तरह व्यस्त रहे।
मैं बाहर के कामों में लगा था जबकि सिमरन और नीलू घर के कामों में लगी थीं।

फिर बारात वाले दिन सब तैयार हो रहे थे।
रात हो चुकी थी।

मैं रूम में आया।
सिमरन- आ गए …
मैं- हम्म …

नीलू- जीजू, बताओ ना मैं कौन सी ब्रा-पैंटी पहनूं?

मैं- कोई भी पहन लो, ये तुम्हारी रंडी है न, इससे ही पूछ लो!
नीलू- आप शर्त भूल गए क्या?
मैं- कौन सी?

नीलू- सेक्स करने से पहले मैंने आपके सामने शर्त रखी थी कि आपके भाई की सुहागरात में आप मेरे साथ सेक्स करोगे!
मैं- पता है मुझे!

सिमरन ये सब सुनकर स्माइल कर रही थी।

फिर नीलू बोली- अब बता भी दो, और मेरी भी हेल्प कर दो।
मैंने लाल रंग की नीलू के लिए बताई और बैंगनी रंग की सिमरन के लिए।

वे दोनों मेरे सामने ही नंगी हो गईं।
वैसे सिमरन के बूब्स देखकर कोई बता नहीं सकता था कि वह लेस्बियन है, देखते ही लंड खड़ा हो जाता है।

हालांकि नीलू की चूचियां थोड़ी छोटी थीं।
फिर मुझसे रहा नहीं गया, मैंने नीलू को जोर से बालों से पकड़ कर दीवार से लगा दिया और किस करने लगा।

लेकिन ये सिमरन से बर्दाश्त नहीं हुआ।

उसने पीछे से मुझे बालों से पकड़ा और दीवार से लगा दिया।
बोली- बहनचोद, मेरे सामने ही मेरी बहन की चूत लेगा?
कहकर वह मुझे जोर से किस करने लगी।

इतने में नीलू घोड़ी बनकर सिमरन की गांड चाटने लगी।
सिमरन मेरे लिप्स को जोर जोर से चूसे जा रही थी और लंड को जोर से दबाये जा रही थी।

नीलू ने मेरे लंड की तरफ देखा तो मैं समझ गया कि ये चुदाई के लिए तैयार है।
अब नीलू ने सिमरन को बेड पर चलने के लिए कहा।

बेड पर ले जाकर नीलू सिमरन के बूब्स चूसने लगी।

उसने अपनी तीन उंगली सिमरन की चूत में दे दीं।
इससे सिमरन उचक गई- उऊईई ईई मम्मी … आह्ह।

फिर मेरी तरफ आंखें दिखाकर बोली- मादरचोद, तू क्या कर रहा है वहां!
उसने मुझे आंखों से सिमरन के बूब्स चूसने का इशारा किया।
मैंने सिमरन के बूब्स को चूसना शुरू कर दिया।

सिमरन की सिसकारियां तेज होने लगीं और उसके मुंह से ऊह्ह आह्ह जैसे कामुक शब्द बरसने लगे।
वह बार बार मस्ती में बोल रही थी- आह्ह साली नीलू … और तेज … और तेजी से चोद मेरी चूत को, आह्ह और तेज!

नीलू ने पूरी उंगली उसकी चूत में घुसा दी जिससे सिमरन की चीख निकल गई।
इतने में नीलू ने अपने होंठ सिमरन के होंठों पर रख दिए।

सिमरन की चूत अब झड़ने के करीब आ गई थी।

चूत में नीलू की उंगलियों की स्पीड अब और ज्यादा बढ़ गई।

नीलू ने सिमरन को अपने आगोश में ले लिया और सिमरन की चूत का पानी निकल गया।

सिमरन शांत हो गई।
उसने नीलू को हटाया और मेरे गले लग गई।

नीलू- साली रंडी … मजा ले मेरे से और झप्पी जीजू को!
सिमरन- नीलू मेरी जान … भूल मत, तू भी मेरी है और आनंद न रहता तो चुदाई भी तू न करवा पाती।

सिमरन- चल मैं नीचे जा रही हूं, हर कोई बारात के लिए तैयार हो रहा है। मैं भी हो जाती हूं। तुम लोग भी तैयार होकर आओ।

वह चली गई.
और उसके जाते ही नीलू मुझसे लिपट कर जोर जोर से किस करने लगी, मेरे लंड को मसलने लगी।

मैं समझ गया कि उसकी चूत चुदाई मांग रही है।
मैंने उसे बेड पर लिटा दिया और किस करने लगा।
फिर उसकी गांड को भींचने लगा।

मैं- नीलू, तेरी गांड भी सिमरन से छोटी है।
नीलू- साली सिमरन को मजा लेना होता है तो गांड मुझसे चटवाती है। चूत में उंगली भी मुझसे करवाती है, लेकिन जब मेरी बारी आती है तो शांत हो जाती है।
मैं- कोई बात नहीं, मैं तेरी गांड और चूचियों को बड़ा कर दूंगा।

नीलू- ओके बातों में टाइम खराब नहीं करते हैं, चलो शुरू करो।
मैं नीलू की गांड में थूक लगाकर लंड के टोपे से मसलने लगा।
फिर उसकी गांड में लंड को सरकाने लगा।

लंड अंदर जाने लगा तो उसकी जोर से चीख निकल गई- आईई … मर गईईई!
मैं जानता था कि नीलू की गांड इतनी आसानी से लंड को झेल नहीं पाएगी।

तो मैं बोला- साली रंडी, चुदाई करवानी है तो सब सहन भी करना पड़ेगा।
मैंने उसे धीरे धीरे चोदना शुरू किया।

कुछ देर बाद धक्कों की स्पीड बढ़ा दी।
मैंने उसके बालों को पकड़ लिया और तेजी से गांड में लंड को घुसाने लगा।

वह चुदती हुई रोने लगी।
मैं- साली रंडी, जब रोना ही था तो चुदाई क्यों करवा रही है?
वह बोली- जीजू, दर्द ज्यादा हो रहा है।

अब मैंने उसके मुंह में एक कपड़ा फंसा दिया।
मैं बोला- शोर बाहर चला जाएगा, कोशिश करो, सब हो जाएगा।
उसने हां में सिर हिला दिया।

मैं दोबारा से चुदाई में लग गया।
कुछ देर बाद मेरा छूटने को हो गया।

मैंने नीलू से बताया लेकिन वह कुछ नहीं बोली।
फिर एकदम मेरी गांड फट गई।

मैंने देखा कि लंड पर खून लगा हुआ था।
तो मैंने लंड निकाला तो उसकी गांड फट गई थी।
वह बेहोश होने लगी थी।

फिर मैंने जल्दी से उसके मुंह पर पानी के छींटे मारे तो उसको होश आने लगा।
होश आते ही वह मुझसे लिपट कर रोने लगी।

फिर मुझे ध्यान आया कि मैंने ही इसे चुप रहने के लिए कहा था इसलिए यह चुपचाप चुदती रही।

फिर मैं उसे गोद में उठाकर वाशरूम में ले गया।
देखा तो उसकी गांड और चूत तक सब जगह खून फैला हुआ था।

वह बोली- मैं आपके लिए इससे भी ज्यादा कर सकती हूं जीजू!

मैंने उसकी चूत और गांड को साफ किया।
हमने साथ में शावर लिया।
उसके बाद हम बाहर आ गए।

बेड पर पूरा खून खराबा हो गया था।
वह बोली- आपका माल निकला था क्या?
मैं- नहीं।
नीलू को पता नहीं क्या हुआ, वह गुस्से में आ गई- मैं सिमरन की तरह चूत को ऐसे बर्बाद नहीं होने दूंगी। मैं चूत में भी लूंगी। आप मुझे चोद रहे हो या नहीं?

सुनकर मुझे भी जोश चढ़ गया।

मैंने उसे बेड पर गिरा दिया और उसकी काली-गुलाबी चूत में लंड को लगाकर धक्का देने लगा।
मेरा लंड एक धक्के में अंदर चला गया।

जल्द ही नीलू मेरे लंड के धक्के खाते हुए मजे में गोते लगाने लगी और बोलने लगी- आहह जीजू … और चोदो … मजा आ रहा है … आह्ह चोदो।
नीलू की चूत अंदर से पूरी गीली हो चुकी थी।

कुछ देर के बाद मेरा भी माल निकलने को हो गया।
मैंने नीलू को बता दिया कि मेरा होने वाला है।

मैं- मुंह में लोगी क्या?
नीलू गुस्से में- नहीं, चूत में चाहिए मुझे!

मैंने चूत में ही सारा माल डाल दिया।
नीलू- जीजू, दी को 1 घंटा हो गया है, अब चलो तैयार हो जाओ।

तभी सिमरन आवाज लगाती हुई आई, उसके पास रूम की चाबी थी तो सीधे खोलकर अंदर चली आई।

कमरे का हाल देखकर वह हैरान हो गई।
वह मेरे पास आकर मुझे मारने लगी, बोली- मादरचोद, नीलू का क्या हाल कर दिया तूने! इतना खून!

नीलू हम दोनों के बीच आकर बोली- दी, सब मेरी मर्जी से ही हुआ है।
सिमरन- इसको पता होना चाहिए ना कि तुम पहली बार कर रही हो, कोई रंडी थोड़ी हो!

नीलू ने सिमरन को गले लगाते हुए कहा- शांत हो जाओ मेरी जान, इसमें मेरी ही मर्जी थी।

सिमरन गुस्से में बोली- नीचे सब तुम दोनों के बारे में पूछ रहे हैं, बोल दूं कि चुदाई कर रहे हैं?
नीलू- दी आप जाओ, 15 मिनट तक संभालो, हम दोनों अभी आते हैं।

सिमरन चली गई।

उसके जाते ही हम दोनों रूम की सफाई में लग गए, फिर हम साथ में नहाए।

नीलू- जीजू, मेरी गांड में बहुत दर्द हो रहा है, लगता है कि चलना मुश्किल है।
मैंने थोडी़ रूई ली और उसकी गांड में घुसा दी।
मैं बोला- इससे थोड़ी राहत मिलेगी।

मैंने नीलू को ब्रा-पैंटी पहनाई और फिर तैयार होने चला गया।
मैं तैयार होकर उससे पहले निकल गया।
जब सिमरन और नीलू साथ में तैयार होकर आईं तो गजब की सेक्सी लग रही थीं।

सिमरन मेरे हाथ में हाथ डालकर साथ खड़ी हो गई।
बोली- क्यों जी, कैसी लग रही हूं? सेक्सी न?

मैं बोला- नाराज तो नहीं हो?
इतने में ही नीलू हमारे पास आ गई।
बोली- जान अब थोड़ा डांस हो जाए!

हम नाचने लगे।
मैं भी इस मौके का फायदा उठाते हुए बार बार नीलू की गांड पर टच कर रहा था।

सिमरन ये सब देख रही थी।

फिर सब लोग शादी में बिजी हो गए।
शादी 2-3 घंटे में संपन्न हो गई।
सब लोग अपने अपने रूम में आने लगे।

सिमरन रूम में आते ही सो गई।
मैं और नीलू अभी जाग रहे थे तो हम बातें करने लगे।

नीलू- जीजू, आपने तो मेरी जान ही ले ली थी।
मैं- हां, माफ करना उसके लिए।

नीलू- कोई बात नहीं जीजू, अगली बार तो मैं ही आप पर भारी पड़ूंगी।
मैं- अच्छा! चलो देखते हैं।

नीलू- जीजू, आपने मेरे और दी के अलावा किसी और के साथ भी सेक्स किया है क्या?

मैंने मुस्करा कर कहा- दो-दो रंडी है ना, और की क्या जरूरत!
नीलू ने मुस्कराते हुए मुझे किस कर लिया।

हम दोनों किस कर रहे थे कि अचानक से बुआ रूम में आ गई।
वह जोर से चिल्लाई- ये क्या है!
तभी सिमरन भी जाग गई।

उसने भी बुआ को देख लिया और हमारी हालत भी।
तभी उसने जल्दी से उठकर दरवाजा बंद कर दिया।

हम तीनों अब बुआ से बात करने लगे।
दरअसल बुआ अपने पति के साथ नहीं रहती थी। उनके कोई औलाद नहीं थी।
बुआ की उम्र 40 साल होगी, चूची 36 की और कमर भी लगभग इतनी ही।
लेकिन बुआ की गांड 42 के करीब थी।
हैरानी थी कि बुआ की गांड इतनी ज्यादा मोटी कैसे थी।

अब हम दोबारा से कहानी पर आते हैं!

तो बुआ ने सिमरन से कहा- देख, ये आनंद क्या कर रहा है!
नीलू- सिमरन को सब पता है!
बुआ- क्या मैं नीलू से अकेले में बात कर सकती हूँ?

मैं और सिमरन इस पर हैरान रह गए।
हम दोनों रूम के बाहर चले गए और बुआ ने दरवाजा बंद कर लिया।

बुआ- ये क्या है नीलू?
नीलू- जो तुम मेरे घर पर मेरे भाई के साथ करती हो, वही।
बुआ- मुझे पता है कि तुम्हें पता है मेरे और तेरे भाई के रिश्ते के बारे में। लेकिन तू सिमरन और आनंद के बीच क्यों आ रही है। तुम्हारे भाई से तो मैं मिली भी नहीं हूं कितने टाइम से।

नीलू- मुझे नहीं पता कि तुम मेरे भाई से मिलती हो या नहीं, लेकिन ये जो सब हो रहा है, इसमें ना ही पड़ो तो अच्छा है।
बुआ- क्यूं इनकी जिंदगी से खेल रही है?

नीलू गुस्से में बोली- साली सिमरन चुदक्कड़ को आनंद जैसा स्मार्ट लड़का मिला और मुझे कोई पसंद नहीं करता।
बुआ- नीलू, मुझे पता है सिमरन और आनंद की शादी के बाद घर पर तुमने हंगामा किया था।

नीलू- किया था और अभी इनकी जिंदगी में रानी बन कर दिखाऊंगी और सिमरन को उसकी औकात बताऊंगी कि घर की असली रानी मैं हूं।

बुआ- मैंने बारात में नोटिस किया था, मुझे शक हो गया था इसलिए मैं छिपकर पीछा कर रही थी।
नीलू- तुम्हारी भलाई खामोश रहने में ही है।

बुआ- लेकिन उन लोगों को तुम्हारी असलियत के बारे में पता चल गया तो?
नीलू गुस्से में बोली- सुन रंडी, तू जाती है या मेरे भाई और तेरी सेक्स वाली तस्वीरें शेयर करूं सबको?
बुआ- ठीक है।

तभी दरवाजा खुला और बुआ गुस्से में बाहर चली गई।
हम लोग अंदर आ गए।

मैंने नीलू को गले लगा लिया और पूछा- क्या हुआ अंदर?
नीलू- कुछ नहीं, बुआ को हम लोगों की मर्जी का पता चला और अब कुछ नहीं कहेगी वह किसी से!

तो दोस्तो, नीलू अपना बदला ले रही थी।
आपको ये स्टोरी कैसी लगी हमें जरूर बताना।

अगली कहानी में मैं बताऊंगा कि नीलू आगे क्या चाल चलती है।

साली गांड फक स्टोरी आपको कैसी लगी? मुझे मेल और कमेंट्स करके बताएं.
मेरा ईमेल आईडी है- [email protected]

About Antarvasna

Check Also

पीरियड्स में बॉयफ्रेंड ने मेरी गांड ही मार ली

मैं मधु जायसवाल आप सभी अन्तर्वासना की हिंदी सेक्सी स्टोरी प्रेमी पाठकों को प्यार भरा …