आंटी और भतीजी की चूत चुदाई की मस्ती

इंडियन देसी गर्ल Xxx कहानी में पढ़ें कि एक जवान लड़की ने अपनी चाची को उसके आशिक से चुदती देखा तो वो गर्म हो गयी और चाची के चोदु से चुद गयी.

मेरा नाम प्रीति है. मैं अन्तर्वासना की बहुत बड़ी फैन हूँ.

यह कहानी मेरी आंटी की है.
मेरी आंटी का नाम रेजिना है.
आगे की कहानी आप मेरी आंटी की जुबानी ही सुनिए.

मेरी पहली सेक्स कहानी को आपने बहुत सारा प्यार दिया इसके लिए मैं आपका बहुत धन्यवाद करती हूं.

पिछली कहानी
आंटी का गैर मर्द के साथ चक्कर
में आपने पढ़ा था कि मेरी भतीजी ने महेश और मुझे फुद्दी मारते समय देख लिया था.

अब आगे इंडियन देसी सेक्स गर्ल Xxx कहानी:

मैं नहीं जानती थी कि मेरी भतीजी नेहा ने हमें देख लिया है क्योंकि मेरा सिर दरवाजे की तरफ था.
महेश ने उसे देख लिया था, तब भी महेश मेरी फुद्दी मारने में लगा रहा.

वह बहुत जोर जोर से मुझे चोद रहा था और साला लंड चूत में पेलते हुए नेहा की ओर देख रहा था.
मुझे समझ में नहीं आ रहा था कि वो क्या कर रहा है क्योंकि उस वक्त मैं चुदाई के नशे में डूबी हुई थी.

मैं बहुत मजे से चिल्ला रही थी- आआ … उन्ह … आह और … जोर … से चोदो … आह मर गई … फाड़ दे …. मेरी चूत!
मुझको बहुत आनन्द मिल रहा था.

उसके धक्के सचमुच बहुत जोर से लग रहे थे.
मैं उसको बोल रही थी- आज बहुत जोर से मार रहा है साले … क्या कोई नई चूत देख ली है क्या … आह और जोर-जोर से चोद कमीने.

और मैं बस चिल्ला रही थी, समझ ही नहीं पा रही थी कि महेश मेरी चुदाई नेहा को दिखा रहा है.
मैं उसके होंठ चूस रही थी, मेरी जीभ उसकी जीभ से खेल रही थी.

हम दोनों जोर-जोर से एक दूसरे से लगे पड़े थे.
मैं नीचे से अपने कूल्हे उठा उठा कर उसका साथ दे रही थी.

जैसे मैं कूल्हा ऊपर उठाती, वो जोर से लंड को मेरी चूत में अन्दर तक पेल देता था.

उसकी जबरदस्त चुदाई से मुझे काफी मजा आ रहा था.

मैं उसकी गर्दन के ऊपर काट रही थी.
और मानो वो मेरे काटने का जवाब जोरदार चुदाई से मुझे दे रहा था.

दस मिनट के बाद मेरी चूत के अन्दर से लावा रिस कर बाहर निकल आया लेकिन वह अभी भी मेरी चूत को ताबड़तोड़ बजाए जा रहा था.
वो मेरी फुद्दी बजाते हुए नेहा की ओर देख रहा था.

मैंने आंखें बंद किए हुए ही उससे कहा- क्या हुआ जान … आज तो मेरी चूत का भोसड़ा बनाने पर तुले हो.
तब उसने मुझसे कहा- नेहा देख रही है.

उसकी इस बात से मेरी सारी मस्ती की मां चुद गई थी और गांड फट कर हाथ में आ गई थी … मैं डर गई थी.

मैंने झट से महेश को अपने ऊपर से हटा दिया.
पता नहीं मेरे अन्दर इतनी ताकत कहां से आ गई.
क्योंकि महेश कम से कम 80 किलो का था और मैंने उसे एक झटके में ही अपने ऊपर से हटा दिया था.

जैसे मैंने उसको धक्का दिया, उसका लंड मेरी चूत से बाहर आ गया.
उसका रस से भीगा चमकदार खड़ा लंड नेहा के सामने था.

मैंने जल्दी से अपने ऊपर गाउन डाला और नेहा को अन्दर ले आई.

फिर भी महेश माना नहीं था, वो साला बेशर्मों की तरह अपने लौड़े को हिला रहा था और नेहा की तरफ देख रहा था.

नेहा का मुँह खुला हुआ था.

मैंने नेहा से कहा- चाहिए क्या?
वह मेरी ओर बहुत गुस्से से देख रही थी.

वह बोली- मैं ये सब अंकल को बोलने वाली हूं.
वो वहां से जाने लगी.

मेरी तो हवा गोल गोल गई थी और मानो पैर से जमीन सरकने लगी थी.
उसी समय महेश जो अपना लंड हिला रहा था, वह उठ कर नेहा के सामने आ गया.

उसने ज्यादा टाइम ना लगाते हुए नेहा को पकड़ किया और उसके मम्मे दबाने लगा.
नेहा कुछ समझ पाती कि वो उसके होंठों को किस करने लगा.

मैंने महेश का साथ देते हुए नेहा का पंजाबी ड्रेस निकाल दिया.

वह कसमसा रही थी लेकिन उसकी फिक्र हम दोनों को नहीं थी.
मैं और महेश उसके जिस्म से खूब खेल रहे थे.

करीब 10 मिनट के बाद वह भी तड़पने लगी थी और उसने गर्म होना शुरू कर दिया था.

नेहा एक 24 साल की लड़की थी, वो दिखने में एकदम दूध सी गोरी थी और भरे हुए जिस्म की कयामत आइटम लौंडिया थी.
उसकी हाइट सिर्फ 5 फुट थी. सबसे गौर करने वाली बात उसके बड़े बड़े मम्मे थे.

चौबीस की उम्र में उसने अपने मम्मे 38 साइज के कैसे कर लिए थे और उसकी गांड 42 की कैसे हो गई थी, ये अचरज भरी बात थी.

थोड़ी देर बाद महेश ने उसकी चड्डी निकाल दी.
उसकी चूत के ऊपर बहुत बाल थे.

महेश ने नेहा की चूत चाटना चालू कर दी. जल्द ही उसकी चूत से पानी आने लगा.
वो चूत को ऊपर उठाने लगी और महेश के बाल पकड़ कर उसका मुँह अपनी चूत के ऊपर जोर जोर से दबाने लगी.

नेहा- आह … आह … उफ फक मी उफ्फ … म्म्म्म!

मैंने गाउन निकाल कर अपनी चूत नेहा के मुँह के ऊपर रख दी.
वो मेरी चूत चाटने लगी.

महेश उसकी बुर जोर जोर से चाट रहा था.
नेहा की चूत का पानी निकलने वाला था.

उसकी कसमसाहट बता रही थी थी. वो मेरी चूत को दांतों से काटने लगी थी.

नेहा- आह … ओह उई और जोर से … आह.

दो मिनट बाद नेहा की चूत से पानी निकल गया.
महेश का पूरा मुँह नेहा के पानी से भर गया.

पूरा पानी निकलने के बाद ही नेहा ने मेरी फुद्दी छोड़ी.
उसी समय मेरा भी नेहा के मुँह पर पानी निकल गया.

महेश लेट गया और नेहा ने उसका लंड मुँह में ले लिया.
वो मदहोशी से उसका लंड चूसने लगी. वो पूरा लंड मुँह में ले रही थी.

महेश को काफी मजा आ रहा था, उसने नेहा के बाल पकड़कर जोर-जोर से उसके मुँह को चोदना चालू कर दिया था.

महेश- चूस साली मेरे लंड को आह … रांड आह … तेरी मां का भोसड़ा … और जोर से चूस मादरचोद आह क्या मजा दे रही है कुतिया.

नेहा करीब 10 मिनट तक उसका लंड चूसती रही थी.
उसको अब सांस लेने में दिक्कत आ रही थी तो महेश ने लंड उसके मुँह से निकाल दिया.

वो महेश का लंड अपने हाथ में लेकर हिलाने लगी थी.
नेहा ने महेश की एक गोटी को मुँह में ले लिया और खींच कर चूसने लगी.

इससे महेश तो मानो जन्नत में चला गया था.

महेश- आह … बहुत अच्छा चूसती है तू … इतनी लड़कियों औरतों और हिजड़ों ने मेरा लंड चूसा, पर तूने जो चूसा है ना … आह जन्नत की सैर करा दो है तूने!

नेहा ने मस्ती से उसके लंड को अपने दांतों से काटना चालू कर दिया.
कभी वो लंड चूसती थी और बीच-बीच में काट लेती थी.
उससे महेश को और ज्यादा मजा आ रहा था.

कुछ मिनट के बाद महेश ने अपना पानी नेहा के मुँह में छोड़ दिया.
नेहा ने पूरा का पूरा पानी पी लिया.

नेहा के चेहरे के ऊपर संतुष्ट होने के भाव दिखाई दे रहे थे.

अब नेहा और महेश अब 69 की पोजीशन में आ गए.
महेश नेहा की चूत चूसना चालू कर दिया और नेहा लंड चूसने लगी.

महेश बीच-बीच में नेहा की गांड पर जोर-जोर से हाथ मार रहा था.
नेहा की गांड इस कारण से लाल हो गई थी.
वह मदहोशी से लंड चूस रही थी- हम्म … उम्म.

कुछ देर के बाद.
नेहा- महेश अब रहा नहीं जाता, ट्रेन की रफ्तार से मेरे चूत में लंड डालो.

महेश नेहा के ऊपर आ गया और दोनों टांगें अपने कंधे के ऊपर रख लीं और नेहा की गांड के नीचे तकिया रख दिया.

ऐसा करने से नेहा की चूत पूरा सामने आ गई थी और लंड लेने के लिए तड़प रही थी.

महेश ने लंड एकदम जोर से नेहा के चूत में डाल दिया.

नेहा पहली बार चुदाई कर रही थी.
उसकी चूत में से खून निकलने लगा और वो रोने लगी, चिल्लाने लगी- आह मर गईई ई मम्मी रे!
निकालो प्लीज … निकालोओ … मैं मर गई … आह फट गई निकालो प्लीज …

फिर भी महेश ने उसको छोड़ा नहीं, वह उसकी चुदाई करता जा रहा था.
नेहा की आंखों से आंसू आ रहे थे.

महेश किसी सांड की तरह उसकी चूत चोद रहा था.
महेश को बहुत खुशी मिल गई थी कि चूत का उद्घाटन उसने कर डाला.

पांच मिनट चुदाई के बाद थोड़ा रहम करके महेश उसे किस करने लगा, उसके निप्पल चूसने लगा.
नेहा को भी अब अच्छा लगने लगा था.

नेहा- ऊह … आह … मेरे सोना … चूस और चूस ले मेरे दूध.

महेश उसके निप्पल काट रहा था.
नेहा के मम्मे पूरे लाल हो गए थे.
महेश के दांतों के निशान नेहा के मम्मों पर बन गए थे.

नेहा को मजा आ रहा था और वो खुद महेश का चेहरा अपने मम्मे पर दबा रही थी.
साथ ही जोर-जोर से चिल्ला भी रही थी.

महेश लंड चूत में पेले हुए था, उसने वापस जोर जोर से चुदाई चालू कर दी.
अब नेहा उसका साथ दे रही थी.

नेहा- जोर से और जोर से मार … मैं तेरी रांड हूं … पेल साले जोर से … दम है कि नहीं चोद भड़वे … तेरी मां ने नामर्द बनाया क्या तेरे को … हरामी साले!

इससे महेश को बहुत गर्मी चढ़ गई और वह और तेजी से चूत चोदने लगा था.

नेहा हंसती हुई चिल्ला रही थी.
महेश उसे देखते जा रहा था और जोर-जोर से लंड पेल रहा था.

नेहा ने अपने दोनों हाथ से महेश के सर को पकड़ लिया था और उसे किस किए जा रही थी.
उसने महेश के होंठों को अपने दांतों में पकड़ लिया और उसको काटने लगी.
कभी लिप टू लिप किस करती कभी अपनी जीभ के साथ खेलती.

फिर नेहा महेश के निप्पल को चूसने लगी और साथ ही साथ वह बहुत बहुत जोर जोर से चिल्ला भी रही थी.

कुछ मिनट के बाद.
महेश ने नेहा को घोड़ी बना लिया.

नेहा ने तुरंत उसका लंड अपनी चूत में ले लिया और ऊपर नीचे होने लगी.
दोनों ने इस सेक्स पोजीशन को बहुत एंजॉय किया.

महेश नेहा के बाल पकड़ कर उसे घोड़ी की तरह भगा रहा था और गांड के ऊपर जोर-जोर से मार रहा था.
साथ साथ उसके एक हाथ से मम्मे दबा दे रहा था और बीच-बीच में उसे जोर से मारता भी जा रहा था.

इससे नेहा और जोर से चिल्लाती गाली देती.
उससे महेश को और गर्मी चढ़ती और वो उसकी और जोर-जोर से चुदाई करने लगता था.

नेहा की चूत ने तो कम से कम दो बार पानी गिरा दिया था.

करीब आधा घंटा होने के बाद महेश ने अपना लंड नेहा के मुँह में डाल दिया.
नेहा बहुत मस्ती से लंड चूस रही थी.

फिर महेश ने अपने वीर्य को नेहा के मम्मों के ऊपर डाल दिया.
चुदाई के बाद नेहा बहुत खुश थी.
वो मुझसे लिपट कर मुझे थैंक्स कहने लगी कि मैंने उसे चुदाई का मजा दिला दिया है.

इसके बाद इंडियन देसी सेक्स गर्ल नेहा की जब तक शादी नहीं हो गई, तब तक वह महेश से हर रोज मेरे घर में चुदाई करवाती थी.

अभी उसकी शादी हो गई है. जब भी वो मायके आती है, महेश उसकी बजा देता है.

कभी-कभी महेश काम के सिलसिले में मुंबई जाता है, तब नेहा के घर में उसकी चूत बजाने महेश आ जाता है.

एक बार महेश को मुंबई काम के सिलसिले में गया था तो कोविड-19 के कारण नेहा का पति घर में ही था.

फिर भी नेहा ने महेश को घर बुलाया और रात को पति के दूध में नींद की दवाई डाल कर रात भर दोनों की रासलीला चली.

अभी भी मैं और महेश दोनों एक दूसरे से बहुत चुदाई करते हैं.

दोस्तो, कैसी लगी यह इंडियन देसी सेक्स गर्ल Xxx कहानी, प्लीज़ मेल करें.
[email protected]

About Antarvasna

Check Also

गोवा की एडल्ट मस्ती और नंगी जवानी

प्रिय पाठको, मैं नील मुंबई से हूँ. अन्तर्वासना पर आज मैं अपनी पहली कहानी लिखने …